मुठभेड़ में मारे गए अमर दुबे की चार दिन पहले ही शादी हुई थी

0
376
कानपुर = विकास दुबे के साथ कानपुर शूटआउट में शामिल रहे अमर दुबे के पुलिस मुठभेड़ में मारे जाने के बाद अब उसके परिवार ने पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाए हैं। विकास की दादी ने दावा किया है कि जिस अमर दुबे को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया है, उसकी शादी 29 जून को ही हुई थी।

इसके अलावा अमर 2 जुलाई को हुए शूटआउट से एक दिन पहले ही गांव से बाहर चला गया था। अमर दुबे के परिवार ने पुलिस की कार्रवाई पर सवालिया निशान लगाते हुए अमर के गांव में मौजूद ना होने की बात कही है। अमर दुबे को कानपुर के शूटआउट में शामिल होने के शक में पुलिस की कई टीमें खोज रही थीं और एसटीएफ ने उसे बुधवार सुबह एक मुठभेड़ में मार गिराया था।वहीं  पुलिस का कहना है कि अमर दुबे विकास के साथ शूटआउट में शामिल था और वह उन लोगों में था जिन्हें विकास ने फोन कर घर पर बुलाया था। पुलिस को ये शक भी था कि विकास की फरारी में अमर ने उसकी मदद की थी। बताया जा रहा है कि अमर दुबे विकास का राइट हैंड था और विकास के टॉप-10 शार्प शूटरों में शामिल था। अमर का निशाना अचूक था और इसी कारण विकास उसे हमेशा अपने साथ रखता था।चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू गांव के हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के घर के सामने अमर दुबे का घर है। अमर दुबे का बचपन विकास दुबे को देखते हुए बीता है। अमर विकास से इतना प्रभावित था कि वो विकास को अपना रोल मॉडल मानने लगा। विकास दुबे परिवारिक रिश्ते में अमर दुबे का बाबा लगता है। विकास दुबे का रिश्तेदार होने की वहज से उसका पूरे गांव में दबदबा था। विकास के कहने पर किसी को भी उठाकर ले आना, रंगदारी वसूला, किसी की भी पिटाई कर देना उसका काम था।अधिकारियों का कहना है कि जिस वक्त हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के घर पर पुलिस दबिश देने गई थी, उसी रात विकास दुबे ने अपने साथियों के साथ मिलकर पुलिस टीम पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई थी। बदमाशों के साथ मिलकर अमर दुबे ने भी पुलिस पर गोलियां दागी थी। इस मुठभेड़ में 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। इसके बाद अमर पर 25 हजार का इनाम घोषित किया गया था और बुधवार सुबह मुठभेड़ के दौरान उसे हमीरपुर में मार गिराया गया।