संबित पात्र के ट्वीट पर मचा बबाल

0
160

नई दिल्‍ली = जम्‍मू-कश्‍मीर के सोपोर में  हुए एनकाउंटर की बेहद मार्मिक तस्‍वीर सोशल मीडिया पर वायरल है। सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स के मुताबिक, इस मुठभेड़ में आतंकियों ने एक नागरिक को निशाना बनाया। वह शख्‍स अपने पोते को घुमाने निकला था। पोता अपने दादा को रोड पर  लेटे मृत पाकर उनकी छाती पर बैठकर बिलखने लगा। यह तस्‍वीर कैमरे में कैद हो गई। एक जवान ने बच्‍चे को अपने पास बुलाया फिर सुरक्षित स्‍थान पर ले गया। जहां साथी जवानों ने बच्‍चे को चुप कराया और उसकी मां को सौंप दिया। बीजेपी के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता संबित पात्रा ने उस मासूम की फोटो शेयर कर ‘पुलित्‍जर लवर्स’ पर तंज कसा है। उनका यह ट्वीट कई नामी हस्तियों को मानवीय मूल्‍यों से परे लगा। कई सेलिब्रिटीज ने बीजेपी नेता को इस ट्वीट के लिए लताड़ लगाई है।

दरअसल इस साल मई में जम्‍मू-कश्‍मीर के तीन फोटोजर्नलिस्‍ट्स को पुलित्‍जर पुरस्‍कार मिला था। यह सम्‍मान पत्रकारिता के क्षेत्र में सबसे प्रतिष्ठित माना जाता है। तीनों फोटो-पत्रकारों को यह अवार्ड घाटी की कवरेज के लिए मिला। एक तस्‍वीर थी जिसमें जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस की गाड़ी पर एक नकाबपोश पत्‍थरबाज पत्‍थर चला रहा है। तब दक्षिणपंथी हलकों में इसकी खासी आलोचना हुई थी कि घाटी की गलत तस्‍वीर पेश करने वालों को सम्‍मान दिया गया है।

अभिनेत्री दीया मिर्जा ने पूछा, ‘क्‍या आपमें रत्‍ती पर सहानुभूति भी नहीं बची है?’ इसपर संबित और मिर्जा के बीच ट्विटर पर अलग बहस छिड़ गई। पात्रा ने जवाब देते हुए कहा कि “इस वक्‍त आपको अपने दिल के पास प्‍लेकार्ड रखना चाहिए जिसपर लिखा हो कि ‘मैं कश्‍मीर में पाक समर्थित जिहाद के लिए शर्मिंदा हूं’ लेकिन आप सब सेलेटिक्‍व हैं… आप कभी ऐसा नहीं करेंगी…” जब दीया ने कहा कि सवाल का जवाब नहीं दिया तो पात्रा ने कहा कि ‘मेरे मन में मेरी सेनाओं के लिए सहानुभूति हैं… हर भारतीय नागरिक के लिए है… चाहे वो किसी भी धर्म का हो।’ संगीतकार   और गायक  विशाल डडलानी ने जब इसे ‘पात्रा की घिनौनी सोच’ करार दिया तो बीजेपी नेता ने कहा, “सच्चाई बोलने पर आप को मेरी सोच घिनौनी लगती है, काश इतनी ही घिनौना आपको ‘जिहाद’ भी लगता।”  मशहूर फिल्‍म कार हंसल मेहता ने जब ‘ट्रोल’ कहकर पात्रा को रिपोर्ट करने की अपील की तो पात्रा ने लिखा, “आपके जैसे लोग डूबे हुए सीरियाई बच्‍चे और जॉर्ज फ्लायड की बर्बर चोकिंग की तस्‍वीरें खूब शेयर करते हैं और आप भारत में कथित अत्‍याचारों पर पीएम मोदी से सवाल करते हैं। अगर मैं एक भारतीय दादा-पोते की तस्‍वीर पोस्‍ट करता हूं जो आतंकवाद के पीड़‍ित हैं और पुलित्‍जर गैंग पर सवाल उठाता हूं तो मैं गाली देने वाला कैसे हो गया?”जम्‍मू-कश्‍मीर में बीजेपी की सहयोगी रही पीडीपी के प्रवक्‍ता मोहित भान ने भी संबित पाऋा को लताड़ा। जिसपर पात्रा ने कहा, “आप लोगों ने आर्टिकल 370 खत्‍म करने में एड़ी-चोटी तक विरोध किया… बात कश्‍मीरी इंटीग्रेशन की करते हैं… कश्‍मीर हमेशा से इंटीग्रेटेड था… हमें कश्‍मीर को जिहाद से डिस्‍इंटीग्रेट करता है। हिम्मत है तो जिहाद के ख़िलाफ़ बोल के दिखाओ, अब बोलती बंद!!”दरअसल, सोपोर में आतंकियों ने  सीआरपीएफ  के काफिले पर घात लगाकर हमला किया था। दोनों तरफ से गोलीबारी में सीआरपीएफ का एक जवान शहीद हो गया। जिस नागरिक की हत्या हुई वह अपने पोते को लेकर कहीं जा रहे थे। गोली लगने के बाद शख्स जमीन पर गिरा हुआ था। खून से लथपथ शरीर के पास उनका पोता पहले बैठा रहा। फिर इस उम्मीद में शख्स के सीने पर बैठ गया कि उसका दादा उसे गोद में उठाकर उसके लिए मिठाई खरीदेगा।