64 एनकाउंटर करने वाले पुलिस अफसर ने ख़ुदकुशी क्यों की

0
102
पटना – जिस पुलिस अधिकारी के नाम से अपराधी थर थर कांपते थे जिसने अपने कार्यकाल में 64 एनकाउंटर किये थे उसने  आखिर ख़ुदकुशी क्यों कर ली ये सवाल बिहार  की राजधानी बिहार की राजधानी पटना में तैर रहा है  बेऊर  रिटायर डीएसपी के चंद्रा के खुदकुशी  की  शुरुआती छानबीन के आधार पर बेऊर थाना पुलिस ने बैंक के अधिकारी पद से रिटायर पड़ोसी संतोष सिन्हा के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। के चंद्रा के बेटे निश्चय वशिष्ठ ने आरोप है कि संतोष सिन्हा ने ही उनके पिता को खुदकुशी के लिए उकसाया था। हालांकि रिटायर डीएसपी ने कभी भी स्थानीय थाने में पड़ोसी के खिलाफ कोई शिकाय नहीं की थी। लेकिन खुदकुशी नोट में इस बात का जिक्र किया है कि वह पड़ोसी संतोष की आदत की वजह से काफी परेशान रह रहे थे। रिटायर डीएसपी ने खुदकुशी नोट में कहा है कि पड़ोसी की हरकतों की वजह से वह 16 साल से ठीक से सो भी नहीं पा रहे थे, जिससे वह लगातार डिप्रेशन में जा रहे थे। इन्हीं सारी बातों से परेशान होकर उन्होंने खुदकुशी जैसा कदम उठा लिया है। परिवार के सदस्यों से पूछताछ में पता चला है कि रिटायर डीएसपी के चंद्रा ने नगर निगम में भी पड़ोसी संतोष की शिकायत की थी, लेकिन वहां से भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। खुदकुशी नोट में भी इस बात का जिक्र है कि नगर निगम ने उनकी शिकायत को गंभीरता से नहीं लिया। खुदकुशी नोट में के चंद्रा ने लिखा है कि पड़ोसी संतोष ने उनके घर के सामने वाली रोड पर राबिश गिरवा कर रोलर चलवा दिया है। इस वजह से वहां जलजमाव होता है, जिससे वे हमेशा डरे रहते हैं कि बरसात में उनके घर के किसी की जान उसी जलजमाव के चलते हो जाएगी। बेऊर थाना प्रभारी ने बताया पुलिस नगर निगम पर लगे आरोपों की भी जांच करेगी।पटना जिले का मोकामा टाल क्षेत्र आजादी के पहले से ही अपराध और वर्चस्व की लड़ाई का केंद्र रहा है। आजादी के बाद भी यहां हालात ज्यादा नहीं बदले। वर्चस्व की जंग का तरीका बस बदलता रहा। 1990 से 2000 के दशक में इस इलाके में ज्यादा खून खराबा होने लगा था। इसी दौरान एक अक्टूबर 2002 को यहां डीएसपी के चंद्रा की तैनाती हुई। यहां की कमान संभालते ही के चंद्रा ने अपने हिसाब से क्राइम को कंट्रोल करना शुरू किया। मोकामा इलाके के अपराधी अड़ियल स्वभाव के होते हैं। इस वजह से के चंद्रा ने इनकी धर-पकड़ करने में ऊर्जा लगाने के बजाय सीधा एनकाउंटर करने लगे।। माना जाता है कि डीएसपी के चंद्रा ने अपने सर्विस काल में करीब 64 एनकाउंटर किए, जिसमें से ज्यादादर मोकामा टाल क्षेत्र के ही हैं। इसके अलावा इन्होंने नौबतपुर इलाके में भी अपराध को खत्म करने में अहम रोल निभाया।