फेयर एंड लवली से फेयर शब्द हटाया जाएगा

0
31

मुंबई = गोरा बनाने वाली क्रीम के सबसे बड़े उत्पादक   हिंदुस्तान यूनीलीवर कंपनी ने अपने ब्रैंड फेयर एंड लवली  से फेयर शब्द हटाने की घोषणा कर दी है। कंपनी ने नए नाम के लिए आवेदन भी कर दिया है, लेकिन अभी उसे स्वीकृति नहीं मिल सकी है। उल्लेखनीय है की इससे पहले जॉनसन एंड जॉनसन ने ऐसे उत्पादों को बेचना बंद करने का फैसला किया, जिनके विज्ञापन में काले धब्बे कम करने का दावा किया जाता है। दरअसल  अमेरिका में अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के चलते नाराजगी देखने को मिल रही थी। दुनिया भर में अश्वेत लोगों से भेदभाव की बातों पर चर्चा होने लगी। अमेरिका में तो हिंसा तक हो गई। यूनीलीवर ने कहा है कि उस पर कई सालों से ऐसे आरोप लग रहे हैं कि वह दुराग्रह पैदा कर रही है, जिसके चलते अब कंपनी ने ये बड़ा फैसला लिया है।
हिंदुस्तान यूनीलीवर के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर संजीव मेहता कहते हैं कि 2019 में कंपनी ने दो चेहरे वाला कैमियो हटा दिया था और साथ ही शेड गाइड भी हटाया था। उसकी वजह से एक सकारात्मक असर देखने को मिला था और ग्राहकों को भरपूर समर्थन भी मिला था।
कंपनी ने 1975 में फेयर एंड लवली क्रीम को बाजार में उतारा था। ये क्रीम कितनी लोकप्रिय है, इसका अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि इस क्रीम के पास 50-70 फीसदी हिस्सा है। 2016 में फेयर एंड लवली ने 2000 करोड़ क्लब में भी एट्री मार ली है।