हवाई दुर्घटना में बचे यात्री ने बताया क्या हुआ था

0
105

कराची = पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस का यात्री विमान जिन्ना अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के पास घनी आबादी वाले रिहाइशी इलाके में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इस भयानक हादसे में मौत को मात देने वाले इंजीनियर मोहम्‍मद जुबैर ने बताया कि हादसे के पहले ही विमान के अंदर सभी यात्री डरे हुए थे और उन्‍हें मौत का खौफ सताने लगा था। जुबैर ने बताया कि विमान एक बार रनवे को छूकर फिर वापस ऊपर चला गया। उन्‍होंने बताया कि 10 मिनट तक उड़ान भरने के बाद पायलट ने घोषणा की कि हम दोबारा लैंडिंग करने जा रहे हैं। इसके बाद पायलट ने विमान को उतारने की कोशिश की और वह दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया। उन्‍होंने कहा, ‘मैंने देखा कि हादसे के बाद हर तरफ धुआं और आग ही आग दिख रही थी। मुझे हर तरफ से चीखें सुनाई पड़ रही थीं। हर तरफ आग लगी हुई थी। मैं लोगों को देख नहीं सका क्‍योंकि चारों तरफ धुंआ था। मैं केवल सभी यात्रियों की चीखें सुन सका।’ जुबैर ने कहा, ‘ईद की छुट्टी के लिए मैं लाहौर से कराची आ रहा था। उड़ान के समय विमान ठीक था। पहली बार लैंडिंग के समय हमने दो-तीन झटके महसूस किए। क्रैश के बाद थोड़ी देर के लिए होश खो बैठा लेकिन बाद मैंने अपनी सीट बेल्‍ट खोली और कुछ प्रकाश दिखाई द‍िया। मैं लाइट की तरफ आगे बढ़ा। मुझे विमान से निकलने के लिए 10 फीट ऊपर से कूदना पड़ा।’ वहीं इस हादसे में बचने वाले बैंक ऑफ पंजाब के अध्यक्ष जफर मसूद ने कहा, ‘अल्‍लाह को शुक्रिया।’ हादसे में मसूद की जान बचाने वाले अमजद ने बताया कि मैंने देखा कि एक यात्री विमान के आपातकालीन दरवाजे के पास निकलने की कोशिश कर रहा था। वह बोल रहे थे। उन्‍होंने मुझसे बचाने की अपील की। मैंने उन्‍हें खींचकर निकालने की कोशिश की लेकिन उनके पैर दरवाजे में फंसे हुए थे।’ इसके बाद आपातकाल सेवाओं के अधिकारी उन्‍हें निकालने आए।
डॉन न्यूज ने  सिंध के स्वास्थ्य अधिकारियों के हवाले से बताया कि 97 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हुई है जबकि दो लोग बच गए हैं। खबर में बताया गया कि जीवित बचे दोनों लोगों की हालत स्थिर है तथा 19 मृतकों की शिनाख्त कर ली गई है। राष्ट्रीय विमानन कंपनी के एयरबस ए320 में 91 यात्री और चालक दल के आठ सदस्य सवार थे। खबर के मुताबिक पहले एक महिला की पहचान विमान में सवार यात्रियों में से जीवित बची शख्स के तौर पर की गई थी लेकिन बाद में वह उस इलाके की निवासी निकली जहां विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ था।
महिला उन 11 लोगों में से एक है जो रिहायशी इलाके में विमान दुर्घटनाग्रस्त होने से घायल हुए हैं। सिंध की स्वास्थ्य मंत्री के मीडिया संयोजक मीरान युसूफ ने बताया कि घायलों में ज्यादातर महिलाएं हैं क्योंकि जब विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ तो वह शुक्रवार की नमाज का वक्त था। उन्होंने बताया कि घायल हुए सभी निवासियों की हालत स्थिर है। ईधी कल्याण ट्रस्ट के फैसल ईधी ने बताया कि ऐसे 25-30 निवासियों को भी अस्पताल ले जाया गया है जिनके घरों को इस विमान हादसे में नुकसान पहुंचा है। उनमें से अधिकतर झुलस गए थे। क्रैश लैंडिंग के दौरान विमान के पंख आवासीय कॉलोनी के घरों से टकराते गए और इसके बाद विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया।
ईधी ने कहा, ‘इस हादसे में कम से कम 25 मकानों को नुकसान पहुंचा है।’ पीआईए के अधिकारियों के मुताबिक, कैप्टन ने हवाई यातायात टावर को सूचित किया कि उसे विमान के लैंडिंग गियर में कुछ गड़बड़ी लग रही है और इसके बाद विमान रडार से गायब हो गया। दुर्घटना के कारण की पुष्टि होना अभी बाकी है। पीआईए के मुख्य कार्यकारी एयर वाइस मार्शल अरशद मलिक ने कहा कि पायलट ने यातायात नियंत्रक को बताया था कि वह कुछ ‘तकनीकी मुश्किलों’ का अनुभव कर रहा है।