हवाई सफर के बाद क्वारंटीन होने की जरूरत नहीं

0
112

नई दिल्ली =सोमवार से देश में घरेलू उड़ान सेवाएं शुरू हो रही हैं।  नागरिक उड्डयन मंत्री  हरदीप सिंह पुरी यह तो पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं कि विमान में बीच की सीटों को खाली नहीं छोड़ा जाएगा। अब उन्होंने यह भी साफ किया है कि प्लेन में सफर करने वाले लोगों को यात्रा के बाद 14 दिन क्वारंटीन में रहने की जरूरत नहीं होगी। पुरी ने कहा, ‘मैं समझता हूं कि अगर आपके पास आरोग्य सेतु ऐप है और आपने अपने आप को टेस्ट कराया है। आप में लक्षण नहीं हैं और आप टेस्ट में नेगेटिव पाए गए हैं तो आपको क्वारंटीन होने की जरूरत ही नहीं होनी चाहिए।’ सोमवार से शुरू हो रही घरेलू उड़ान सेवा में सिर्फ उन्हीं यात्रियों को इजाजत दी जाएगी जिनके पास आरोग्य सेतु ऐप होगा और उसमें उनका सिग्नल ग्रीन दिख रहा होगा। यात्रा से पहले सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग होगी। कोरोना जैसे लक्षण मिलने पर यात्रा की इजाजत नहीं होगी।कर्नाटक सरकार ने महाराष्ट्र, राजस्थान, दिल्ली, गुजरात, तमिलनाडु और मध्य प्रदेश से आने वाले यात्रियों के लिए 7 दिन सरकार के क्वारंटीन सेंटर और उसके बाद घर में क्वारंटीन का नियम लागू करने की घोषणा की है। अन्य राज्यों लौटने वाले यात्रियों को 14 दिनों के लिए घर भी क्वारंटीन किया जाएगा।केंद्रशासित प्रदेश कश्मीर में भी विमान यात्रियों को क्वारंटीन किया जाएगा और कोरोना टेस्ट के बाद ही उन्हें घर जाने की इजाजत होगी। कश्मीर के डिविजनल कमांडल पी के पोल ने बताया कि श्रीनगर हवाई अड्डे पर पहुंचने वाले सभी यात्रियों को किया जाएगा क्वारंटीन।केरल सरकार ने कहा है कि राज्य में विमान से आने वाले यात्रियों को 14 दिनों के लिए घर में क्वारंटीन किया जाएगा। सीएम पी विजयन ने बताया कि घरेलू उड़ानों से केरल पहुंचने वाले सभी यात्रियों को क्वारंटीन में रहना अनिवार्य होगा। राज्य में 1-2 दो दिन के लिए कारोबारी उद्देश्य से आने वाले लोगों के लिए यह नियम बाध्य नहीं होगा।बिहार सरकार ने साफ किया है कि एयरपोर्ट से बाहर आने वाले यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। इस दौरान स्वस्थ मिलने के बाद ही यात्रियों को बाहर जाने की इजाजत होगी। अगर यात्रियों में कोरोना जैसे लक्षण मिलने पर उन्हें क्वारंटीन किया जाएगा। साथ ही पटना से जाने और यहां आने वाले यात्रियों को अपना पूरा पता देना होगा।दरअसल कर्नाटक, असम और जम्मू-कश्मीर जैसे कई राज्यों ने दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों के लिए इंस्टिट्यूशनल क्वारंटीन को अनिवार्य कर रखा है। ऐसे में सवाल उठ रहा था कि 25 मई से शुरू हो रही घरेलू उड़ान सेवाओं के बाद क्या यात्रियों को गंतव्य तक पहुंचने के बाद क्वारंटीन में रहना पड़ेगा।