एफआईआर आपके द्वार, मध्य प्रदेश पहला राज्य बना

0
66

भोपाल। = मध्य प्रदेश एक ऐसा पहला राज्य बन गया है जिसने  एफआईआर   आपके द्वार’ की शुरुआत  की है  पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर अभी यह व्यवस्था प्रदेश के कुछ जिलों में लागू की गई है। अगर सफल रहा तो पूरे प्रदेश में लागू होगी। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा और  पुलिस महानिदेशक  विवेक जौहरी ने इसकी शुरुआत की है। अब लोगों को अपराध की जानकारी डायल 100 पर देनी होगी, उसके बाद पुलिस की टीम उनके घर पहुंच जाएगी। 10 संभागीय मुख्यालयों और दतिया में एफआईआर   आपके द्वार सेवा शुरू की गई है। गंभीर अपराधों को अन्य मामलों की जानकारी लोग डायल 100 पर देंगे और पुलिस की फर्स्ट रिस्पांस व्हीकल उनके घर पहुंच जाएगी। इस सेवा की शुरुआत के मौके पर गृह मंत्री ने एफआरवी वाहन को भी रवाना किया।
गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश एफआईआर   आपके द्वारसेवा की शुरुआत करने वाला पहला राज्य है। इसके अंतर्गत भोपाल के सुनील चतुर्वेदी ने पहली रिपोर्ट दर्ज करवाई है। जवाहर चौक पर रहने वाले सुनील चतुर्वेदी की कार चोरी हो गई है। पुलिस की टीम उनकी शिकायत पर घर पहुंची और केस दर्ज किया।
इस मौके पर गृह मंत्री ने कहा कि अगर ये योजना ’ सफल  हुई  तो इसे पूरे प्रदेश में लागू करेंगे। उन्होंने कहा कि इसे अभी 3 महीने के लिए शुरू किया गया है। इसे संभागीय मुख्यालयों के एक शहरी और एक ग्रामीण थाना में लागू किया गया है। 10 संभागीय मुख्यालयों में भोपाल, ग्वालियर, चंबल, इंदौर, जबलपुर, रीवा, सागर, शहडोल और उज्जैन संभाग के अलावा दतिया गैर संभागीय मुख्यालय है।