कर्ज देने वाले को फंसाने उसने अपनी बीबी की हत्या कर दी

0
193

नई दिल्ली =बादली रेड लाइट के पास बुधवार तड़के मारुति रिट्ज में कार सवार बिजनसमैन फैमिली पर हमला करने वाले आखिर कौन थे? क्या हत्या करना ही मकसद था? क्या लाखों की कर्ज वसूली को लेकर हमला हुआ या सबक सिखाने के लिए ‘गहरी साजिश’ रची गई? दिल्ली पुलिस ने इन तमाम सवालों को सुलझाने का दावा किया है। पुलिस के मुताबिक कर्ज में डूबे बिजनसमैन पंकज मेहरा ने कर्ज देनेवाले को फंसाने के लिए अपनी ही पत्नी की हत्या की। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। डीसीपी मिलिंद दुमड़ा ने बताया कि बिजनसमैन ने पूछताछ के दौरान अपना गुनाह कबूल कर लिया और उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।
नवभारत्त टाइम्स कीखबर के मुताबिक बिजनसमैन ने अपने परिवार के ऊपर हमले की झूठी कहानी गढ़ी। शालीमार बाग के रहने वाले बिजनसमैन पंकज मेहरा ने पुलिस के सामने कहानी गढ़ी कि जब वह अपने परिवार के साथ तड़के 3 बजे के करीब बादली रेड लाइट के पास से गुजर रहे थे तभी कुछ हमलावरों ने उनपर ताबड़तोड़ गोलियां चलाईं। गोली लगने से मेहरा की पत्नी प्रिया गंभीर रूप से घायल हो गई और अस्पताल ले जाते वक्त उनकी मौत हो गई। कार को अंदर दोनों ओर के साइड मिरर चूरचूर मिले।
पंकज मेहरा ने सोनीपत के रहने वाले एक शख्स से ब्याज पर 4 लाख रुपये कर्ज लिया था। ऊंची ब्याज दर होने की वजह से यह रकम कई गुना बढ़ गई। कर्ज देनेवाला अब 40 लाख रुपये की मांग कर रहा था। पंकज कर्ज अदा करने में आनाकानी कर रहा था। आखिरकार उसने कर्ज देनेवाले को फंसाने के लिए अपनी ही पत्नी की हत्या की खौफनाक साजिश को अंजाम दिया।
पुलिस को पंकज की कहानी पर शुरू से शक था। पंकज मेहरा ने बताया कि हमलावरों ने उसकी पत्नी को गोली मार दी और उसे मुक्का मारा। पुलिस को इस बात पर शक हुआ कि हमलावरों ने पत्नी को ही निशाना क्यों बनाया, बिजनसमैन को कोई गोली क्यों नहीं लगी। इसके बाद पुलिस ने आस-पास के सीसीटीवी फुटेज और कुछ मोबाइल नंबरों की सीडीआर निकलवाई। शक पुख्ता होने पर पुलिस ने जब बिजनसमैन से सख्ती से पूछताछ की तो वह टूट गया और अपना गुनाह कबूल कर लिया।