भू अधिग्रहण को लेकर महाराष्ट्र में किसान हुए हिंसक- गाड़ियां फूंकी

0
245

मुंबई =में किसानों का आंदोलन एक बार फिर शुरू हो गया है। राज्य के ठाणे जिले के कल्याण में ठाणे-बदलापुर हाइवे पर किसानों का आंदोलन गुरुवार को हिंसक हो गया। जमीन के अधिग्रहण को लेकर आंदोलन कर रहे किसानों ने आगजनी शुरू कर दी। हाइवे पर पुलिस की कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया। दोपहर बाद ठाणे पुलिस कमिश्नर ने इस हिंसा के दौरान 12 पुलिसवालों के घायल होने की पुष्टि की, हालांकि उन्होंने अब हालात के काबू में रहने की भी बात कही।
ठाणे के कमिश्नर ने कहा कि कुछ गांववालों ने पुलिस टीम और डीसीपी पर हमला किया, जिसके बाद पैलट गन का इस्तेमाल किया गया और इससे 4 गांववाले घायल हो गए। उन्होंने बताया कि हिंसा बढ़ने की वजह से 12 पुलिसवाले भी घायल हो गए। प्रदर्शनकारियों के खिलाफ हत्या की कोशिश करने का मामला दर्ज किया जाएगा। हालांकि, उन्होंने इलाके में धारा 144, या कर्फ्यू लगाए जाने से इनकार किया।
प्रदर्शनकारियों ने हाइवे पर जाम लगा दिया था। इसके अलावा, किसानों और पुलिसवालों में झड़प की खबरें भी मिलीं। हालात काबू करने के लिए अतिरिक्त पुलिस मौके पर भेजी गई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कम से कम 17 गांवों के लोग इस प्रदर्शन में शामिल हुए। 10 से ज्यादा जगहों पर ये प्रदर्शन हुए, जिनमें ठाणे-बदलापुर हाइवे भी शामिल है।
किसानों का आरोप है कि रक्षा मंत्रालय ने इनकी जमीन का अधिग्रहण कर लिया और उसके लिए गांववालों की मंजूरी नहीं ली गई। किसानों के मुताबिक, सरकार यह अधिग्रहण जबर्दस्ती कर रही है। एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक, इंडियन नेवी एक दीवार बनाने की योजना बना रही है, जिसकी वजह से यह विवाद हुआ है। इससे पहले तक किसानों का प्रदर्शन शांतिपूर्ण था, लेकिन गुरुवार को अचानक से आंदोलन हिंसक हो उठा।
15 दिन से भी कम समय में महाराष्ट्र के किसानों का यह दूसरा आंदोलन है। राज्य के किसानों ने फसल खराब होने की वजह से कर्ज माफी तथा एमएसपी की गारंटी सहित विभिन्न मांगों को लेकर प्रदर्शन किया था। किसानों ने अहमदनगर जिले में तो बड़ी मात्रा में दूध सड़कों पर बहा दिया था। आंदोलन के बाद सीएम देवेंद्र फड़णवीस ने किसानों का 30 हजार करोड़ का कर्ज माफ करने की घोषणा की थी।