ममता केजरीवाल ने मोदी पर हमला बोला

0
199

नई दिल्ली =नोटबंदी के मुद्दे पर विपक्ष का सड़क से लेकर संसद तक मोदी सरकार पर हमला जारी है। गुरुवार को संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही जहां जबर्दस्त हंगामे के कारण ठप रही, वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक मंच से मोदी सरकार पर हमला बोला।
दिल्ली की आजादपुर मंडी में आयोजित रैली में ममता ने नोटबंदी को लेकर केंद्र सरकार पर तीखे हमले किए और फैसला वापस लेने के लिए तीन दिन का अल्टिमेटम भी दिया। रैली में केजरीवाल ने कहा, ‘लोग नोट लेकर बाजार में घूम रहे हैं, लेकिन बच्चों के लिए दूध नहीं मिल रहा। दवा नहीं मिल रही।’ काले धन के मुद्दे पर उन्होंने अन्ना हजारे के नेतृत्व में छेड़े गए आंदोलन का जिक्र किया। केजरीवाल ने कहा, ‘मैं शुगर का मरीज हूं, लेकिन फिर भी भ्रष्टाचार के खिलाफ मैंने 2 बार अनशन किया था।’मुख्यमंत्री ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने के लिए उन्होंने अपनी जान दांव पर लगाई है। उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा, ‘हमारी मोदी जी से कई मुद्दों पर असहमतियां हो सकती हैं, लेकिन जब भी उन्होंने अच्छा काम किया, हम सबसे आगे रहे। स्वच्छ भारत और योग दिवस पर हम आगे-आगे रहे और अपना समर्थन दिया। लेकिन अगर काला धन खत्म करने के नाम पर आप घोटाले करेंगे, तो हम विरोध करने में अपनी जान लगा देंगे।’
500 और 1,000 के नोट बंद कर 2,000 का नोट जारी किए जाने पर सवाल खड़े करते हुए केजरीवाल ने कहा, ‘मैं आयकर विभाग में कमिश्नर था। अनपढ़ नहीं हूं मैं। मैं समझ नहीं पा रहा कि 500 और हजार के नोट खत्म कर 2,000 के नोट लाने से भ्रष्टाचार कैसे खत्म होगा।’ कंडाला पोर्ट पर ACB द्वारा नए नोटों में रिश्वत लेने वाले अधिकारियों को गिरफ्तार किए जाने का जिक्र भी केजरीवाल ने अपने भाषण में किया। उन्होंने कहा कि नए नोट जारी हुए और लोगों ने उनमें ही रिश्वत लेना शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा, ‘मैं पूरी जिम्मेदारी से कह रहा हूं कि यह आजाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला है। यह 8 लाख करोड़ का घोटाला है। बैंकों ने बड़े-बड़े कारोबारियों और अरबपतियों को 8 लाख करोड़ का कर्ज दे रखा था। इनके कारण बैंक खाली हो गए। मोदी ने इस रकम में से 1 लाख 14 करोड़ का कर्ज तो माफ कर दिया।’
विजय माल्या का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा, ‘एक रात प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें हवाई जहाज में बैठाकर लंदन भेज दिया।’ उन्होंने आगे कहा, ‘लोगों द्वारा कतार में लगकर बैंकों में जो पैसा जमा कराया जाएगा, उसमें से 8 लाख करोड़ लेकर मोदी जी कारोबारियों और अरबपतियों का कर्ज माफ कर देंगे। हमें क्या मिलेगा, ठन ठन गोपाल।’
दिल्ली विधानसभा में केजरीवाल ने बिड़ला समूह द्वारा मोदी को कथित तौर पर रिश्वत दिए जाने का जो आरोप लगाया था, उन्होंने उसे भी अपने भाषण में दोहराया। केजरीवाल के मुताबिक, उनके पास कई ऐसे कागज हैं जिनमें कारोबारियों द्वारा प्रधानमंत्री मोदी को दिए गए पैसों का जिक्र है। केजरीवाल ने कहा, ‘लोग कह रहे हैं कि हमें तो लाइन में खड़ा कर दिया, लेकिन अंबानी और अडानी कहां है। इस देश के साथ बहुत बड़ा धोखा हो रहा है। कहीं ऐसा तो नहीं कि पैसा लेकर इन लोगों को छोड़ा जा रहा है।’ खनन दिगग्ज जनार्दन रेड्डी की बेटी की शादी में 500 करोड़ रुपये खर्च किए जाने की खबरों पर भी केजरीवाल ने सवाल खड़ा किया।
मुख्यमंत्री ने कहा, ‘देशभक्ति के नाम पर हमें तो लाइन में खड़ा करो और आप बड़े-बड़े लोगों के साथ गुलछर्रे उड़ाओ। देश के लोग इसे माफ नहीं करेंगे। देश की जनता सबसे बड़ी देशभक्त है।’ बैंक के बाहर कतार में खड़े होने के कारण जिन 40 लोगों की मौत होने की खबर है, उनका जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, ‘इन 40 मौतों का जिम्मेदार कौन है? ये सभी शहीद हैं।’
मंच पर केजरीवाल से पहले ममता बनर्जी ने भीड़ को संबोधित किया। ममता ने कहा, ‘सरकार में आने से पहले इन्होंने अच्छे दिन का वादा किया था। क्या यही हैं अच्छे दिन? क्या लोग हीरा खाकर जिंदा रहेंगे?’ नोटबंदी के फैसले से आम जनता को हो रही परेशानियों का जिक्र करते हुए ममता ने जनता से एकजुट होने की अपील की।
उन्होंने कहा कि वह देश को बेचने नहीं देंगी। ममता ने कहा, ‘क्या देश में सभी चोर हैं? क्या किसी ने भी कभी इस तरह का संकट देखा है? हम डरे नहीं हैं, एक पलटकर लड़ेंगे।’ ममता ने कहा कि आम आदमी और गरीबों को इस फैसले से सबसे ज्यादा परेशानी उठानी पड़ रही है। आक्रामक अंदाज में बोलते हुए ममता ने लोगों को हो रही मुश्किलों के लिए मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराया।
mamtaउधर गुरुवार को लगातार दूसरे दिन नोटबंदी के मुद्दे पर राज्यसभा में विपक्ष का हंगामा देखने को मिला। विपक्षी नेता इस मुद्दे पर बहस के लिए प्रधानमंत्री को सदन में बुलाए जाने की मांग कर रहे थे।