जापान के मुकाबले बहुत सस्ता होगा देश में बुलेट ट्रेन का सफर

0
1358

नई दिल्ली -रेल मंत्रालय ने भविष्य में मुंबई-अहमदाबाद के बीच चलने वाली बुलेट ट्रेन के लिए किराये का प्रस्ताव रख दिया है। इसके मुताबिक बुलेट ट्रेन का किराया फर्स्ट क्लास एसी के मौजूदा किराये का डेढ़ गुना होगा। मसलन, मुंबई-अहमदाबाद के बीच दुरंतो एक्सप्रेस में प्रथम श्रेणी एसी का किराया 2,200 रुपये है। इसका मतलब है कि हाई स्पीड कॉरिडोर से दोनों शहरों के बीच 508 कि.मी. की दूरी तय करने के लिए 3,300 रुपये चुकाने होंगे।
वहीं, जापान में तोक्यो और ओसाका के बीच 550 कि.मी. की दूरी बुलेट ट्रेन से तय करने पर करीब 8,500 रुपये लगते हैं। लोकसभा को दिए लिखित जवाब में रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि पहले चरण में बुलेट ट्रेन नेटवर्क की डिजाइनिंग ज्यादा से ज्यादा 350 कि.मी. प्रति घंटे की रफ्तार के हिसाब से तैयार की जाएगी जबकि ऑपरेटिंग स्पीड 320 कि.मी. प्रति घंटे होगी।
मंत्रालय को उम्मीद है कि 2023 तक बुलेट ट्रेन से रोजाना 36,000 पैसेंजर यात्रा करेंगे जबकि 2053 तक इनकी तादाद बढ़कर 1,86,000 हो जाएगी। सिन्हा ने बताया, ‘बुलेट ट्रेन की कुल यात्रा अवधि 2 घंटे 7 मिनट की होगी जबकि हर स्टेशन पर रुकते हुए वह कुल 2.58 घंटे का वक्त लेगी।’
मिनिस्ट्री ने मुंबई से अहमदाबाद तक कुल 12 स्टेशन बनाने का फैसला किया है। ये 12 स्टेशन होंगे- मुंबई, ठाणे, विरार, बोइसर, वापी, बिलिमोरा, सूरत, भरूच, वडोदरा, आणंद, अहमदाबाद और साबरमती। मंत्री ने कहा, ‘प्रॉजेक्ट पूरा करने में करीब 97,636 करोड़ रुपये की लागत आएगी।’
मनोज सिन्हा ने बताया, ‘आगे के लिए चीन के साथ सरकारों के स्तर पर सहयोग के तहत दिल्ली-चेन्नै कॉरिडोर पर दिल्ली-नागपुर के बीच बुलेट ट्रेन चलाने की संभावना का अध्ययन किया जाएगा।’
पिछले सप्ताह लोकसभा में चर्चा के दौरान रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने देश के ताजा हालात के मद्देनजर बुलेट ट्रेन के ज्यादा खर्चीला होने की आलोचना को यह कहते हुए खारिज कर दिया था कि सरकार ने महज 0.1 प्रतिशत के ब्याज दर पर जापान से कर्ज की व्यवस्था कर ली है। उन्होंने कहा, ‘बुलेट ट्रेन के लिए इस्तेमाल होने वाली तकनीक से साधारण ट्रेनों की सेवाओं और सिग्नलिंग सिस्टम के इंटिग्रेशन में भी सुधार होगा।’ उन्होंने इस बात पर हैरानी जताई कि बुलेट ट्रेन चलाने के खिलाफ जान-बूझकर गलत सूचनाएं फैलाने का अभियान चलाया जा रहा है।