गुजरात में मोदी हिमाचल में वीरभद्र

0
174

नई दिल्ली / गुजरात और हिमाचल प्रदेश दोनों ही राज्यों के चुनाव परिणाम सामने आ गए हैं। गुजरात में राजनीतिक पंडितों की भविष्यवाणी को सच साबित करते हुए नरेंद्र मोदी ने हैट-ट्रिक लगाई है। राज्य में पार्टी की यह लगातार 5वीं जीत है। हालांकि राज्य में बीजेपी को पिछली बार की 117 सीटों की तुलना में 2 सीटें कम मिली हैं जबकि कांग्रेस ने पिछली बार की सीट संख्या (59) में दो सीटों का इजाफा करते हुए 61 सीटें हासिल की हैं। दूसरी ओर हिमाचल में बीजेपी से सत्ता छिन गई है। पार्टी को भारी नुकसान का सामना करना पड़ा है। यहां कांग्रेस बहुमत के पार पहुंच गई है। कांग्रेस को 36 और बीजेपी को 26 सीटें मिली हैं। अन्य 6 सीटें निर्दलीयों के खाते में गई हैं।
गुजरात में सभी सीटों के परिणाम आ गए हैं। बीजेपी के खाते में 115 सीटें आई हैं। यह पिछली बार की 117 से दो कम है। कांग्रेस के खाते में 61 सीटें आई हैं। उसे पिछली बार की तुलना में 2 सीटों का फायदा हुआ है। केशुभाई पटेल की गुजरात परिवर्तन पार्टी कुछ खास कर पाने में नाकाम रही।
मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी मणिनगर सीट से चुनाव जीत चुके हैं। वहीं, गुजरात में कांग्रेस की सरकार बनने का दावा करने वाले और पोरबंदर विधानसभा से लगातार तीसरी बार चुने जाने के लिए मैदान में उतरे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अर्जुन मोढवाडिया को उनके प्रतिद्वंद्वी बीजेपी उम्मीदवार बाबू बोखारिया ने 17,146 मतों के अंतर से हरा दिया।
बीजेपी हिमाचल में इतिहास बनाने में नाकाम रही। अपवाद छोड़ दिया जाए तो हिमाचल का इतिहास भी यही कहता है कि वहां सत्ता में रहने वाली पार्टी की वापसी नहीं होती है। यह एक बार फिर सच साबित हुआ है। कांग्रेस ने यहां बीजेपी से सत्ता छीन ली है। कांग्रेस को 36 सीटें मिली हैं, जबकि बीजेपी को 26 सीटें। हिमाचल प्रदेश में बीजेपी ने हार स्वीकार करते हुए कहा कि पार्टी जनादेश को स्वीकार करती है। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार ने कहा कि हम जनादेश को स्वीकार करते हैं। बीजेपी में सभी लोगों ने मिलकर चुनाव लड़ा, लेकिन लोगों ने हमारे पक्ष में मत नहीं दिया। हम इसे स्वीकार करते हैं। इससे पहले, मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने हार स्वीकार कर ली थी।
गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी राज्य में लगातार तीसरी बार अपने दम पर सरकार बनाते दिखाई दे रहे हैं और अगले लोकसभा चुनाव में उनके प्रधानमंत्री पद का दावेदार होने की बात को भी बल मिल रहा है।
गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी जहां राज्य में हैट-ट्रिक लगाने की ओर बढ़ रहे हैं वहीं उनकी पार्टी बीजेपी ने इस बारे में रुख स्पष्ट नहीं किया कि क्या वह अगले लोकसभा चुनाव में पार्टी के प्रधानमंत्री पद के दावेदार होंगे। बीजेपी प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि मोदी हमेशा से बीजेपी में एक महत्वपूर्ण नेता रहे हैं। हमारी पार्टी वंशवाद से नहीं चलती जिसमें कोई युवराज नेता हो। हम लोकतांत्रिक तरीके से काम करते हैं। प्रसाद से सवाल किया गया था कि क्या गुजरात में लगातार तीसरी जीत दिलाने वाले मोदी अगले लोकसभा चुनाव में पार्टी के प्रधानमंत्री पद के दावेदार हो सकते हैं।
गुजरात विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के फिर से मुख्यमंत्री बनने की तस्वीर साफ होने के बीच सीनियर वकील राम जेठमलानी ने कहा कि प्रधानमंत्री पद के लिए मोदी की दावेदारी मजबूत हुई है।
मोदी की इस हैट-ट्रिक पर उनकी मां हीरा बेन ने ने कहा कि आज मेरा सीना गर्व से चौड़ा हो गया है। अभी मेरे बेटे को गुजरात और देश के लिए बुहत कुछ करना है। वह अभी नहीं रुकेगा। उन्होंने कहा कि मेरे बेटे ने काफी मेहनत की है और अब उसे देश का प्रधानमंत्री बनना चाहिए।