गेंगे रेप के दो आरोपियो की फांसी पर रोक

0
75

नई दिल्ली -16 दिसंबर २०१२ को दिल्ली में हुए गेंग रेप के चार आरोपियों में से दो आरोपियों की फांसी की सजा पर सुप्रीम कोर्ट ने फांसी पर 31 मार्च तक रोक लगा दी है।
दिल्ली हाई कोर्ट ने निर्भया गैंग रेप केस में लोअर कोर्ट से दोषी चार लोगों मुकेश, अक्षय ठाकुर, पवन गुप्ता और विनय शर्मा की फांसी बरकरार रखी थी। इसके बाद चार में दो गुनहगारों मुकेश और पवन गुप्ता ने हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। कोर्ट ने उनकी अपील पर सुनवाई करते हुए दोनों की फांसी पर 31 मार्च तक रोक लगाई है।
ट्रायल कोर्ट ने इस जघन्य मामले को ‘रेयरेस्ट ऑफ रेयर’ मानते हुए मुकेश, अक्षय ठाकुर, पवन गुप्ता और विनय शर्मा को गैंग रेप, कत्ल, डकैती समेत 11 धाराओं के तहत फांसी की सजा सुनाई थी। दोषियों ने इसके खिलाफ दिल्ली हाई में अपील की थी, जहां चारों की सजा बरकरार रखी गई थी।
हाई कोर्ट के फैसले के बाद विक्टिम की मां ने कहा था कि उन्हें इसी तरह के फैसले की उम्मीद थी, लेकिन उनकी बेटी को सच में न्याय तब मिलेगा, जब इन सभी दरिंदों को फांसी दी जाएगी।