अवसाद और निराशा लाती है बुढापा

0
66

अक्सर ये माना जाता है कि डिप्रेशन य़ानी निराशा अवसाद इंसान को मानसिक और भावनात्मक रूप से कमजोर बना देता है। मगर अब वैज्ञानिकों का कहना है कि इन समस्याओं के साथ ही डिप्रेशन बुढ़ापा भी जल्दी लाता है। नीदरलैंड्स के वैज्ञानिकों ने एक अध्ययन में पाया है कि डिप्रेशन के कारण शारीरिक क्षमताओं पर भी बुरा असर पड़ता है और यह सेल्स में एजिंग की प्रक्रिया को तेज कर देता है। जो लोग गंभीर किस्म के डिप्रेशन का शिकार होते हैं, वे बाकी लोगों के मुकाबले जल्दी बूढ़े हो जाते हैं। यह नतीजा 2407 लोगों पर की गई एक स्टडी में निकाला गया।
दिल की धमनियों में कोई रुकावट तो नहीं आ रही है, यह जानने के लिए अभी एंजियोग्राफी की मदद ली जाती है। वैज्ञानिकों ने अब दिल की आर्टरीज में रुकावट का पता लगाने के लिए एक ऐसी तकनीक का विकास किया है, जो शरीर में कैमरे भेजे बिना दिल का हाल बयान कर सकती है। पूरी तरह इमेजिंग पर आधारित इस तकनीक का विकास ब्रिटेन की एडिनबर्ग यूनिवर्सिटी के साइंटिस्ट्स ने किया है। इस नई तकनीक को पीईटी-सीटी स्कैनर नाम दिया है। इसके इस्तेमाल से अब दिल की बीमारियों से लोगों को समय रहते आगाह करना आसान होगा। स्ट्रोक का शिकार बन चुके लोगों को दोबारा इसका सामना न करना पड़े, इसके लिए साइंटिस्ट्स ने एक नई डिवाइस का विकास किया है। यह एक अल्ट्रासाउंड डिवाइस है, जो क्लॉट्स का सफाया करने वाली दवा से लैस रहती है। इस तकनीक को पेशंट के सिर में फिट किया जाता है। अमेरिकी साइंटिस्ट्स द्वारा विकसित यह डिवाइस पेशंट के सिर में क्लॉट का सफाया करने वाली दवा के साथ ही अल्ट्रासाउंट तरंगें छोड़ती है। ये तरंगें दवा के असर को बढ़ाती हैं और पेशंट को दोबारा स्ट्रोक का खतरा नहीं रहता। यह डिवाइस ब्रेन की आर्टरी को बड़ी कुशलता से क्लॉट्स से फ्री करती है।