भाजपा संगठन – चुनाव में कमल कुम्हलाने लगे हैं…

0
141

राघवेंद्र सिंह

हम पहले से ही कहते और मानते आए है लोकतंत्र में जो कुछ घटित हो रहा है उसके चलते सियासत – सत्ता ( मंत्री- अफसर समेत ), संगठन और इसका स्वयं भू स्तम्भ मीडिया कसौटी पर हैं। मगर इस समय लगता है सबके दिन बुरे चल रहे हैं। ढोल तो पीटा था अच्छे दिन आने वाले हैं और दूसरों ने दावा किया था बदलाव है बदलाव का… जो हो रहा है वह अंधे को भी दिख रहा है और बहरे को भी सुनाई दे रहा है। न अच्छे दिन आते दिख रहे हैं और न ही वक्त बदलता…भाजपा में इलेक्शन होते थे मगर अब वहां भी वक्त बदल रहा है। मण्डल से जिले तक सिलेक्शन होना तय हो गया है। संगठन में लोकतंत्र की नाक इसलिए दबाई जा रही है कि वह सांस लेते समय खर्राटे (गुटबाज़ी )ज़्यादा मारती है अर्थात उसके नेताओ की आरामतलबी में खलल पैदा करती है इसलिये संगठन में निर्वाचन के बजाय मनोनयन की नीति को सिस्टम पर थोपा जा रहा है।प्रदेश भाजपा में अध्यक्ष का चुनाव आखरी बार शिवराज सिंह चौहान और विक्रम वर्मा के बीच हुआ था।इसके वाद अठारह साल बीत गए और इस अवधि में आम सहमती या मनोनयन से प्रदेश अध्यक्ष का चयन किया जा रहा है।पहले यह स्तिथि मंडल और जिलों में अध्यक्ष चयन में नही थी।वहाँ कार्यकर्ता अध्यक्ष और प्रदेश प्रतिनिधि का चुनाव करते थे।अब मंडल और जिलों में अध्यक्ष के लिए चालीस और पैतालीस की आयु सीमा तय कर दी है।कई अनुभवी और वफादार इसके चलते चुनाव से बाहर हो गए है।तीस नवम्बर तक प्रदेश भाजपा को अपने छप्पन जिला अध्यक्क्ष का चुनाव करना था लेकिन नहीं हो सका।जिलो में चुनाव की बजाए रायशुमारी कर दावेदारों जे पैनल बुलवा लिए गए है।अब इनपर चर्चा कर मनपसंद अध्यक्षों की घोषणा कर दी जाएगी।इस तरह निर्वाचन के जरिये जो एक हज़ार से अधिक मंडल अध्यक्क्ष और छप्पन जिला अध्यक्ष चुने जाते थे वे सब अब निर्वाचन के बजाय मनोनियमित किये जायेंगे।इस नई प्रक्रिया से भाजपा में काम करने वाले कमल को मिलाते नज़र आएंगे।इसके लिए मशहूर शायर दुष्यंत त्यागी का एक शेर याद आ रहा है जो उन्होंने सड़ती गलती व्यवस्था को लेकर लिखा था…
” अब तो इस तालाब का पानी बदल दो,
यहां के कमल कुम्हलाने लगे हैं”…