सपा के दो पूर्व प्रवक्ताओं की शादी में संकट के बादल

0
156

लखनऊ = समाजवादी पार्टी के पूर्व प्रवक्ता अनिल यादव के साथ 1 दिसंबर को सात फेरे लेने जा रही कांग्रेस मीडिया पैनलिस्ट पंखुड़ी पाठक अपने भावी पति पर उनकी पूर्व पत्नी द्वारा लगाए गए आरोपों से बेहद आहत हैं। इस विवाद के बाद पंखुड़ी पाठक और अनिल यादव की शादी पर संकट के बादल मंडराते नजर आ रहे हैं।
अनिल यादव की पूर्व पत्नी ज्योति यादव ने आरोप लगाया कि बेटे को मारने की धमकी देकर उससे जबरन तलाक दिलाया गया। इसके बाद 14 महीने तक जबरन घर में बंधक बनाकर शारीरिक उत्पीड़न और मारपीट की गई। नोएडा में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अपने वकील वीके पांडेय के साथ पहुंचीं ज्योति यादव ने कहा कि वह विजयनगर (गाजियाबाद) की रहने वाली हैं।
ज्योति यादव ने कहा कि जुलाई 2013 में उनकी शादी सेक्टर-62 नवादा गांव के अनिल यादव से हुई थी। मई 2015 में बेटे का जन्म हुआ। इसी दौरान अनिल एसपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता बन गए। एसपी सरकार ने सितंबर 2016 में अनिल यादव और पंखुड़ी पाठक समेत अपने नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल को अमेरिका भेजा। वहां से लौटते ही अनिल का व्यवहार बदल गया और उसने मारपीट शुरू कर दी।
ज्योति के मुताबिक, अनिल के मोबाइल में दोनों का अश्लील विडियो मिला। अनिल से पूछने पर पता चला कि विडियो पंखुड़ी ने बनाया है और अब उसे ब्लैकमेल कर शादी करने का दबाव बना रही है। अनिल ने उससे तलाक मांगा तो ज्योति ने इनकार कर दिया। आरोप है कि बेटे को जान से मारने की धमकी देकर सितंबर 2018 में तलाक ले लिया। ज्योति के मुताबिक तलाक के बाद भी उसे वापस मायके नहीं जाने दिया गया और 14 महीने तक घर में रखकर अनिल और उसके छोटे भाई ने शारीरिक उत्पीड़न किया।
उधर, अनिल यादव ने पूर्व पत्नी के सभी आरोपों को झूठा बताया है। उन्होंने कहा कि शादी के बाद उन दोनों की नहीं बन सकी इसलिए तलाक लिया था। इसके एवज में ज्योति ने उनसे 50 लाख रुपये मांगे, जो कोर्ट की निगरानी में उनके खाते में जमा कराए गए। तलाक के तुरंत बाद वह नवादा गांव छोड़कर सेक्टर-78 में रहने लगे। कहने के बावजूद ज्योति ने उनका घर नहीं छोड़ा। अब जब उनकी दूसरी शादी की तैयारियां होने लगीं तो मायके वालों को बुलाकर उनके हिस्से की कोठी भी अपने नाम करवाने की मांग की। अमेरिका की कथित घटना और तलाक के बाद शारीरिक उत्पीड़न के आरोपों को भी उन्होंने झूठा बताया है।