रिक्शे वाले को आनंद महिंद्रा देंगे नई गाडी

0
299

मुंबई = देश की टॉप ऑटोमोबाइल कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा अपनी दरियादिली के लिए जाने जाते हैं। जरूरत पड़ने पर वह किसी की मदद करने से भी नहीं चूकते। इस बार उन्होंने यह दरियादिली एक रिक्शेवाले पर दिखाई है। आनंद महिंद्रा उस रिक्शे वाले से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने उसे एक नई गाड़ी देने का ही एलान कर दिया।
दरअसल आनंद महिंद्रा के ट्विटर अकाउंट पर नीरज प्रताप सिंह नाम के एक शख्स ने एक ट्वीट साझा किया। उस शख्स ने एक रिक्शे वाले की पिक्चर शेयर की जिसमें उसने रिक्शे के पीछे की तरफ महिंद्रा की कारों पर आने वाला लोगो (एंब्लम) लगाया हुआ था। पिक्चर साझा करने वाले शख्स ने आनंद महिंद्रा से इस पर प्रतिक्रिया मांगी।वहीं आनंद महिंद्रा ने उस ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए पहले तो ट्वीट किया और उसके बाद उस पर लिखा ‘नीरज शायद तुम्हें यह मजाकिया लगा होगा और हां यह है भी, खासतौर पर तब, जब लोगो नीचे की तरफ लगाया गया है। लेकिन मैं इससे बेहद रोमांचित हूं, और हम उसे चलाने के लिये एक नया अपग्रेडेड वाहन देंगे, ताकि वह जिंदगी में उन्नति ’ कर सके।‘हालांकि महिंद्रा ने अपने ट्वीट में यह खुलासा नहीं किया वह उस रिक्शे वाले को कौन सी गाड़ी देंगे। लेकिन अपने ट्वीट में उन्होंने इसका हिंट भी दिया है। उम्मीद जताई जा रही है कि महिंद्रा उस रिक्शेवाले को कोई इलेक्ट्रिक वाहन गिफ्ट करेंगे।
हालांकि यह पहली बार नहीं है कि जब आनंद महिंद्रा ने किसी शख्स को गाड़ी गिफ्ट की हो। इसस पहले अक्टूबर में ही मैसूर के एक शख्स कृष्ण कुमार को महिंद्रा केयूवी गिफ्ट की थी। वह शख्स स्कूटर पर अपनी मां को तीर्थ यात्रा कराने ले जा रहा था और इसके लिए उसने अपनी बैंक की नौकरी भी छोड़ दी थी। आनंद महिंद्रा ने उससे प्रभावित हो कर गाडी गिफ्ट करने का एलान कर दिया।
वहीं दो साल पहले 2017 में आनंद महिंद्रा ने एक शख्स को महिंद्रा सुप्रो फोर व्हीलर गिफ्ट किया था। मनोज नाम के शख्स ने तिपहिया वाहन को स्कॉर्पियो एसयूवी में बदल दिया था और उस पोस्ट को 24 हजार से ज्यादा लाइक्स मिले थे और उसे छह हजार बार रीट्वीट किया गया था।
इससे पहले सितंबर 2018 में केरल में आई बाढ़ के दौरान एक मछुआरे को उन्होंने महिंद्रा मराजो गिफ्ट की थी। जैसल नाम के मछआरे को उन्होंने सुपर फिशमैन बताया था। उस मछुआरे ने अपनी बोट के जरिये कई लोगों की जान बचाई थी