101 वर्ष की उम्र में रोज कोर्ट जाते है ये वकील साहब

0
309

सासाराम = बिहार के सासाराम के रहने वाले हरिनारायण सिंह जिला अदालत में वकालत करते हैं। यूं तो अनेक वळील वकालत करते है पर हरिनारायण जी इसलिए मशहूर है क्योकि सौ साल की उम्र पार कर चुके 101 वर्षीय सिंह रोजाना कोर्ट जाते हैं। साफ, स्पष्ट और तेज आवाज में दलीलें पेश करते हैं। दूसरे पक्ष के वकील से तर्क करते हैं और कभी-कभी उनकी तार्किक बहसों से जज और दूसरे वकील हैरत में पड़ जाते हैं।
टाइम्स ऑफ़ इंडिया की खबर के मुताबिक शाहाबाद जिले के तिलई गांव में 21 सितंबर 1918 को पैदा हुए हरिनारायण सिंह ने साल 1948 में कोलकाता के प्रेसिडेंसी कॉलेज से लॉ की डिग्री हासिल की थी। उनके पिता चाहते थे कि वह वकील बनें क्योंकि उस समय ज्यादातर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और नेता वकालत के पेशे से वास्ता रखते थे। उन्होंने कोलकाता में कुछ साल अध्यापन भी किया और बाद में सासाराम लौट आए। उन्होंने साल 1952 में वकालत की प्रैक्टिस शुरू कर दी।
खबर के मुताबिक सिंह के पोते भूपेंद्र उर्फ चुन्नू बताते हैं कि सिंह राज्य सरकार में कराधान अधिकारी के बतौर भी चयनित हुए थे लेकिन पिता की इच्छा के मुताबिक, उन्होंने नौकरी छोड़ वकालत अपना ली। अपने 67 साल के प्रैक्टिसिंग करियर के साथ सिंह सासाराम कोर्ट के सबसे अनुभवी वकील हैं। दिलचस्प बात यह है कि उनकी पत्नी बबुनी देवी भी सौ साल उम्र वाले क्लब में शामिल हैं। उनकी उम्र भी 100 साल है। दोनों ने साल 1941 में शादी की थी और अब उनकी शादी को 78 साल हो गए हैं।
सिंह के चार बेटे और एक बेटी थी। उनके एक बेटे कृष्ण कुमार सिंह साल 2003 से 2015 तक लगातार एमएलसी रहे। वहीं, उनके अन्य तीन बेटे किसानी और व्यापार के क्षेत्र में हैं। उनके 47 पोते और परपोते हैं। सिंह का समूचा परिवार एक साथ एक ही छत के नीचे रहता है और वह आज भी अपने परिवार के मुखिया हैं। भूपेंद्र बताते हैं कि आज भी हर शाम परिवार का हर सदस्य उन्हें रिपोर्ट करता है कि आज उसने अपने बिजनस के लिए या अपनी नौकरी के लिए क्या किया?
सिंह और उनकी पत्नी के सौ साल पूरे होने की खुशी में उनके परिवार ने बीते 13 नवंबर को तिलई गांव में एक बड़ी पार्टी आयोजित की थी। इसमें बिहार के तमाम बड़े नेताओं, वकीलों, कारोबारियों और समाजसेवियों समेत हजारों लोग शामिल हुए थे। इस पार्टी में जेडीयू के राज्यसभा सदस्य आरसीपी सिंह, करकट के एमपी महाबली सिंह, औरंगाबाद के एमपी सुशील कुमार सिंह, बिहार के कृषि मंत्री प्रेम कुमार, मंत्री ब्रज किशोर बिंद और तकनीकी मंत्री जय कुमार सिंह ने भी शिरकत की थी।