रिजर्व बैंक ने कहा – पीएमसी बैंक के खाताधारियों का पैसा सुरक्षित

0
71

नई दिल्ली = पंजाब ऐंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक के प्रदर्शनकारी खाताधारकों की भारतीय रिजर्व बैंक के साथ बैठक खत्म हो गई है। बैठक के दौरान आरबीआई ने कहा कि खाताधारकों का पैसा सुरक्षित है और केंद्रीय बैंक के गवर्नर इस मामले की खुद निगरानी कर रहे हैं। आरबीआई ने कहा है कि वह इस मामले की जानकारी केंद्र सरकार को देगा, साथ ही वह इसपर 27 अक्टूबर को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगा।
खाताधारकों ने मंगलवार को बैठक के बाद बताया कि उनकी आरबीआई से 19 बिंदुओं पर चर्चा हुई और उन्होंने मामले को सुलझाने के लिए केंद्रीय बैंक को 30 अक्टूबर तक का वक्त दिया है। और छह महीने के लिए बैंक से पैसे निकालने की 40 हजार की ऊपरी सीमा तय कर दी है, जिसके कारण ग्राहकों की मुसीबतें बढ़ रही हैं। हालत यह है कि खाते में पैसे होते हुए लोग अपने बच्चों की स्कूल फीस से लेकर इलाज तक का खर्च नहीं जुटा पा रहे हैं। यही नहीं, इस संकट के कारण अब तक बैंक के चार खाताधारकों की जान जा चुकी है।
बैंक के ग्राहकों को उनकी जीवनभर की कमाई डूबने का डर सताने लगा है, जिसे उन्हें अपने बचत खाते और एफडी के रूप में बैंक में जमा कर रखा है। मुंबई के एक कारोबारी एम. ए. चौधरी बताते हैं कि पीएमसी बैंक द्वारा जारी चेक बाउंस करने की वजह से वह न तो अपने कर्मचारियों को सैलरी दे पा रहे हैं और न ही बिजली बिल भर पा रहे हैं।
बैंक के मैनेजिंग डायरेक्टर जॉय थॉमस ने बैंक पर लगी पाबंदियों के बारे में ग्राहकों को एक एसएमएस भेजा था, जिसमें कहा गया था कि वे छह महीने में केवल एक हजार रुपये की ही रकम अपने खाते से निकाल सकते हैं। इसके बाद उन्हें बैंक के साथ घोटाला करने वाली कंपनी हाउजिंग डिवेलपमेंट ऐंड इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के प्रमोटरों राकेश तथा सारंग वधावन के साथ कथित फर्जीवाड़े के मामले में गिरफ्तार कर लिया गया था।