मुंबई की आरे कॉलोनी में पेड़ काटने को लेकर हंगामा धरा 144 लागू

0
49

मुंबई = मुंबई की में शुरू हुई पेड़ों की कटाई पर सियासी घमासान छिड़ गया है। एक ओर पर्यावरण प्रेमी यहां डटकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, दूसरी ओर सियासी बयानबाजी भी तेज हो गई है। कोर्ट का फैसला आते ही पेड़ों की कटाई होने पर राज्य में बीजेपी की सहयोगी शिवसेना ने भी तीखा हमला बोला है। पार्टी के नेता आदित्य ठाकरे ने इस मामले में प्रदर्शनकारियों की गिरफ्तारी को शर्मनाक बताया है। वहीं, आरे पहुंचने से पहले ही पार्टी की प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी को हिरासत में ले लिया गया। कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी निशाने पर लिया है।
मुंबई पुलिस ने आरे कॉलोनी में पेड़ों की कटाई को लेकर किए गए प्रदर्शन के मामले में छह महिलाओं सहित 29 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने इससे पहले करीब 60 लोगों को हिरासत में लिया था, जिनमें गिरफ्तार किए गए ये लोग शामिल थे। पुलिस के एक अधिकारी ने कहा, ‘हमने 29 लोगों को गिरफ्तार किया है, जिसमें छह महिलाएं हैं। इनमें कुछ ने आरे कॉलोनी में तैनात पुलिस कर्मियों से हाथापाई की थी और उन्हें उनका काम करने से रोका।’
आदित्य ठाकरे ने इस मामले में मुंबई पुलिस द्वारा 29 लोगों की गिरफ्तारी पर सवाल उठाते हुए ट्वीट किया। उन्होंने सीएम देवेंद्र फडणवीस से मामले में दखल देने की अपील करते हुए ट्वीट में लिखा, ‘प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ केस दर्ज नहीं किया जा सकता। अगर हम ऐसा करते हैं तो शर्मनाक है। मैं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री से इस मामले में दखल देने की अपील करता हूं। उन्हें पुलिस को निर्देश देना चाहिए कि पर्यावरण से प्रेम करने वालों पर केस दर्ज न हो।’
हाई कोर्ट के फैसले के बाद पेड़ों की कटाई की खबर फैलते ही आदित्य ठाकरे ने ट्वीट कर नाराजगी जताई। उन्होंने लिखा- ‘जिस तरह से मुंबई मेट्रो का काम चोरी-छिपे और तेजी से आरे के ईकोसिस्टम को काटकर किया जा रहा है वह शर्मनाक और घटिया है। कई पर्यावरण प्रेमियों और स्थानीय शिवसेना सदस्यों ने इसे रोकने की कोशिश की। जिस तरह से पुलिस तैनात करके पेड़ काटे जा रहे हैं, मुंबई मेट्रो हर उस बात को खराब कर रही है जो भारत ने संयुक्त राष्ट्र में कही।’
पार्टी प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी भी आरे के लिए जा रही थीं लेकिन उससे पहले ही उन्हें इलाके से बाहर कर दिया गया। उन्होंने ट्वीट किया- ‘मुझे पुलिस ने जबरन बाहर कर दिया और मेरी गाड़ी में बैठे पुलिसवाले मुझे यह नहीं बता रहे कि मुझे कहां ले जाया जा रहा है।’ वहीं, पार्टी के राज्यसभा सांसद और प्रवक्ता संजय राउत ने एक ट्वीट कर फडणवीस सरकार पर कटाक्ष किया है।
कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने इसे मुंबई के लिए सबसे बुरा दिन बताया है और सरकार और एमएमआरसीएल की निंदा की है। कांग्रेस ने पीएम मोदी को भी निशाने पर लिया है। पार्टी ने ट्वीट किया है- ‘पीएम मोदी की पर्यावरण को बचाने की खोखली बातें सिर्फ दुनियाभर के लोगों को लुभाने के लिए थीं। घर में उनकी सरकार का काम एकदम अलग है।’
रिपोर्ट्स के मुताबिक 500 से ज्यादा पेड़ काटे जा चुके हैं। हालात को देखते हुए आरे में एंट्री की सड़कें ब्लॉक कर दी गई हैं और धारा 144 लगा दी गई है। इसके चलते आरे बचाओ मुहिम से जुड़े लोगों, प्रदर्शनकारियों, पर्यावरण कार्यकर्ताओं और स्टूडेंट्स ने बड़ी संख्या में इन एंट्री पॉइंट्स पर इकट्ठा होना शुरू कर दिया है। इन लोगों का आरोप है कि पुलिस फोटो और विडियो लेने वाले लोगों के फोन भी छीन रही है। वहीं, रात को पुलिस द्वारा प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज करने का आरोप भी लगाया गया है।