भोपाल में गणेश विसर्जन के दौरान नाव पलटी 11 लोग डूबे

0
96

भोपाल = मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के छोटे तालाब के खटलापुरा घाट पर तड़के करीब 4.30 बजे गणेश प्रतिमा विसर्जन के दौरान 11 लोगों की नाव पलटने से मौत हो गई। अब हादसे का विडियो भी सामने आया है, जिसमें 20 सेकंड का वह खौफनाक मंजर दिखाई देता है जब प्रतिमा विसर्जन के बाद अचानक हाहाकार मच जाता है। देखते ही देखते लोग पानी में डूबने लगते हैं। जान बचाने के लिए पानी पर हाथ पीटते हैं, आस-पास के लोग चिल्लाने लगते हैं, कुछ लोग बचाने के लिए भी पहुंचते हैं पर तबतक काफी देर हो चुकी होती है। हादसे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गहरा दुख व्यक्त किया है। उन्होंने इस दुख की घड़ी में पीड़ित परिवारों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की है।
जो वीडियो सामने आया है उसमें देखा जा सकता है कि गणेश प्रतिमा को पानी में विसर्जित करने के ठीक बाद नाव का संतुलन बिगड़ जाता है और जो लोग नाव पर खड़े होते हैं, वे पानी में गिर पड़ते हैं। एक और नाववाला उन्हें बचाने के लिए बढ़ता है पर उसकी नाव भी पलट जाती है। लोग मदद के लिए गुहार लगाते रहे लेकिन उन्‍हें समय पर मदद नहीं मिल पाई। करीब 15 सेकंड बाद दूसरी नौका पहुंची लेकिन तब तक 11 लोगों की पानी में डूबने से मौत हो चुकी थी।
खटलापुरा घाट के पास बड़ी संख्या में लोग गणेश प्रतिमा विसर्जन के लिए खड़े थे। इसी बीच करीब 18 लोग एक नाव पर गणेश की विशालकाय प्रतिमा लेकर तालाब के अंदर गए। उन्‍होंने प्रतिमा का विसर्जन भी कर दिया लेकिन कुछ ही सेकंड में उनकी नाव अनियंत्रित हो गई। समझा जा रहा है कि नाव पर ज्‍यादा लोगों के होने की वजह से वह अचानक पलट गई।
नाव के पलटने के बाद उसमें सवार लोग तालाब में गिर गए। उन्हें बचाने एक और नाव पहुंची तो पानी में डूब रहे लोग उसमें सवार होने की कोशिश करने लगे। दूसरी नाव को चला रहा नाविक भारी भीड़ को देखते हुए पानी में कूद गया। सभी लोग दूसरी नाव पर चढ़ने लगे। इस दौरान दूसरी नाव भी पानी में डूब गई।
पानी में डूब रहे लोग बचाओ-बचाओ की आवाज लगा रहे थे लेकिन बचाव नौका के उन तक पहुंचने में टाइम लग गया और 11 लोगों की मौत हो गई। इस दौरान कुछ ऐसे भी लोग थे जो पानी में तैर सकते थे, उन लोगों ने अंदर जाकर लोगों को बचाने की भी कोशिश की। तीसरी नौका से कुछ लोगों को निकाला जा सका। मध्य प्रदेश सरकार ने मृतकों के परिजनों को 11-11 लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है।