44 साल बाद हुई मुंबई में ऐसी बारिश

0
224

मुंबई =मुंबई में पिछले कुछ दिनों से जारी बारिश ने आम लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। बारिश की वजह से स्कूल-कॉलेज बंद हैं। परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं। शहर की रफ्तार थम गई है और लोग घरों में कैद होने को मजबूर हैं। सोमवार रात को मूसलाधार बारिश के बाद मंगलवार को भी शहर में बरसात हुई। बारिश से शहर में बने हालात देखकर ही पता चलता है कि कितनी भारी बारिश हुई है। यही बात मौसम विभाग की सांता क्रूज स्थित ऑब्जर्वेटरी के आंकड़ों से साबित होती है। यहां दर्ज की गई बारिश के मुताबिक मंगलवार सुबह 8:30 बजे तक 24 घंटे के अंदर 375.2 मिलीमीटर बारिश हुई। यह पिछले 44 साल में 24 घंटे के अंदर हुई दूसरी सबसे ज्यादा बारिश है।
टाइस ऑफ़ इंडिया की खबर के मुताबिक पिछले 44 साल में इससे पहले सबसे ज्यादा बारिश 26 जुलाई, 2005 को हुई थी, जब दोगुनी से भी ज्यादा 944 मिमी बारिश रेकॉर्ड की गई थी। कोलाबा स्थिति ऑब्जर्वेटरी में 137.8 मिमी और दहाणु में 192.8 मिमी बारिश रेकॉर्ड की गई। ठाणे में पिछले 24 घंटे में 220.42 मिमी बारिश दर्ज की गई। मंगलवार को 40-50 किमी प्रतिघंटा से लेकर 60 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से हवाएं चलने का अनुमान जताया गया है। मछुआरों को अगले 48 घंटों तक समुद्र में नहीं जाने के लिए कहा गया है।
ठाणे क्षेत्रीय आपदा प्रबंधन सेल को 24 घंटे में 94 शिकायतें मिलीं। इनमें से करीब 13 पेड़ और 3 डालें गिरने की थीं। कोपरी कॉलोनी, हीरानंदानी एस्टेट, ठाणे मेंटल हॉस्पिटल और कालवा के मनीषा नगर समेत 45 इलाकों में जलभराव की शिकायतें आईं। मौसम विभाग की मुंबई ऑब्जर्वेटरी में वैज्ञानिक शुभांगी भूटे ने कहा है कि रात भर अलग-अलग जगहों पर भारी तो कहीं बेहद भारी बारिश हुई। बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव क्षेत्र और चक्रवाती सर्कुलेशन के कारण यह स्थिति बनी है।
बारिश ने जमीन पर जिंदगी दुश्वार करने के साथ-साथ आसमान में उड़ान पर भी ब्रेक लगा दिया है। हालांकि मुंबई एयरपोर्ट को बंद नहीं किया गया है लेकिन एक फ्लाइट के रनवे पर फिसलने के बाद मुख्य रनवे पर ऑपरेशन फिलहाल रोका गया है। वैकल्पिक रनवे का इस्तेमाल किया जा रहा है। कुछ फ्लाइट्स को गोवा डायवर्ट किया गया है। अब तक 52 फ्लाइट रद्द की जा चुकी हैं, जबकि 54 का रूट डायवर्ट किया गया है।