विकास की हत्या का आदेश दुबई से आया था

0
242

फरीदाबाद =कांग्रेस पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता विकास चौधरी की हत्या के मामले में पुलिस ने गैंगस्टर कौशल की पत्नी रोशनी और उसके नौकर नरेश उर्फ चांद को अरेस्ट कर लिया। पुलिस पूछताछ में रोशनी ने बताया कि उसके पति ने दुबई से रिकॉर्डेड मेसेज भेजकर विकास चौधरी की हत्या का फरमान सुनाया था। कौशल के आदेश पर उसने नौकर नरेश के साथ मिलकर विकास की हत्या की साजिश रची। इसके लिए शूटरों को गाड़ी और हथियार उपलब्ध करवाए गए। हत्या की वजह उसने लेनदेन बताई, जबकि रंगदारी मांगने की बात भी सामने आ रही है। पुलिस ने वारदात में इस्तेमाल की गई कार भी ग्रेटर फरीदाबाद से बरामद कर ली है। साथ ही शनिवार को रोशनी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया, जबकि नौकर को 3 दिन की रिमांड पर लिया गया है।
गुरुवार को सेक्टर-9 में जिम करने के लिए गए विकास चौधरी की सरेआम गोलियां दागकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में क्राइम ब्रांच डीएलएफ, सेक्टर-85, सेक्टर-48, सेक्टर-65 और सेक्टर-7 थाना प्रभारियों को आरोपितों की धरपकड़ के आदेश दिए गए थे। पुलिस टीम ने शनिवार को गुड़गांव में रेड कर नाहरपुर रूपा गांव निवासी गैंगस्टर कौशल की पत्नी रोशनी और दमदमा गांव निवासी नरेश उर्फ चांद को अरेस्ट कर लिया। नरेश काफी समय से कौशल के घर पर बतौर नौकर रहता है।
पुलिस पूछताछ में गैंगस्टर कौशल की पत्नी रोशनी ने बताया कि उसके पति और विकास चौधरी के बीच लेनदेन को लेकर कुछ विवाद था। पिछले दिनों कौशल ने दुबई से उसे रिकॉर्डेड मेसेज भेजकर विकास चौधरी की हत्या करने के आदेश दिए थे। पति के आदेश पर उसने नौकर चांद के साथ मिलकर विकास की हत्या की साजिश रची थी।
पुलिस प्रवक्ता, सूबे सिंह ने बताया कि पूछताछ में रोशनी और नरेश उर्फ चांद ने बताया कि हत्या की पूरी योजना बन जाने के बाद उन्होंने गुड़गांव के धनवापुर गांव में रहने वाले विकास उर्फ भल्ले और फरीदाबाद के खेड़ी खुर्द गांव निवासी सचिन को विकास की हत्या की जिम्मेदारी सौंपी थी। हत्या के लिए एसएक्स-4 कार और हथियार भी इन दोनों ने आरोपितों को उपलब्ध करवाए थे। विकास और सचिन ने वारदात को अंजाम देने के लिए अन्य दो युवकों को शामिल किया।
क्राइम ब्रांच टीम ने मर्डर मामले में आरोपित गैंगस्टर कौशल की पत्नी रोशनी और उसके नौकर नरेश को सिविल जज प्रदीप कुमार की कोर्ट में पेशकर पूछताछ के लिए रिमांड मांगा लेकिन बचाव पक्ष के ऐडवोकेट कुलदीप यादव ने रिमांड का विरोध किया। कोर्ट ने पर्याप्त सबूत न होने पर पुलिस की अर्जी खारिज करते हुए रोशनी का रिमांड नहीं दिया। कोर्ट ने रोशनी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। कौशल के नौकर नरेश उर्फ चांद को 3 दिन के रिमांड पर पुलिस को पूछताछ के लिए सौंप दिया।