विकास चौधरी बेड कैरेक्टर था, खटटर ने कहा

0
129

चंडीगढ़ =हरियाणा के फरीदाबाद में कांग्रेस प्रवक्ता विकास चौधरी की हत्या के मामले में सामने आया है कि विकास चौधरी घोषित अपराधी थे। हालांकि पुलिस अभी तक विकास के कातिलों का पता नहीं लगा पाई है। ऐसे में जब मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से सवाल किया गया तो उन्होंने मामले को दूसरी तरफ मोड़ दिया। उन्होंने कहा कि विक्टिम बैड कैरक्टर घोषित किया हुआ था।
पत्रकारों के सवाल पर सीएम खट्टर ने कहा, ‘यह घिनौनी घटना है। पुलिस टीम गठित कर दी गई है। अपराधी छोड़े नहीं जाएंगे लेकिन व्यक्ति का करेक्टर खराब है, यह भी ध्यान देना होगा। वह बैड कैरक्टर घोषित किया गया हुआ है। उन्हें कांग्रेस वालों ने अपने पार्टी में शामिल करके प्रवक्ता बना दिया है। सही इंसान की पहचान नहीं कर पा रहे हैं जबकि उस व्यक्ति के खिलफ 13 मामले दर्ज हैं, 307 और 120 बी तक के मामले भी दर्ज हैं। ऐसे शख्स के साथ खुद भी हो सकता है। उसकी दुश्मनी भी हो सकती है।’
फरीदाबाद में विकास चौधरी की हत्या की जांच में सामने आया है कि जिला पुलिस की ओर से करीब 10 साल पहले 2008 में बैड कैरक्टर घोषित किया था। विकास का नाम आज भी सेक्टर-7 थाने में बोर्ड में लिखा हुआ है। पुलिस के अनुसार जिन लोगों के खिलाफ 3 या उससे अधिक आपराधिक मामले दर्ज होते हैं, उन्हें पुलिस अपने रेकॉर्ड में 10 नंबरी यानी बैड कैरक्टर घोषित कर देती है। ऐसे व्यक्ति का नाम थाने के बोर्ड लिखकर सार्वजनिक किया जाता है। विकास चौधरी के नाम भी सेक्टर-7 थाने के बोर्ड पर पहले नंबर पर लिखा हुआ है। विकास चौधरी के खिलाफ जिले के अलग अलग थानों में कुल 13 आपराधिक मामले दर्ज हैं। जिनमें मारपीट, जान से मारने की धमकी, हथियार के बल पर अगवा करना, जबरन वसूली करना, रास्ता रोकना व बंधक बनाना आदि शामिल है।
उधर, विकास चौधरी के भाई गौरव चौधरी का कहना था कि उसका भाई सभी मामलों में कोर्ट से बरी हो चुका था। सभी मामले राजनैतिक द्वेष के चलते दर्ज कराए गए थे। कोर्ट से विकास चौधरी को न तो कोई सजा हुई और न की कोई जुर्माना हुआ। हरियाणा कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक तंवर ने शुक्रवार को फरीदाबाद के बीके अस्पताल के बाहर प्रदर्शन किया, जहां विकास का शव रखा गया था। अशोक ने कहा, ‘कल हमें बताया गया कि सारी फॉर्मेलिटी हो चुकी हैं लेकिन अभी तक हमें बॉडी नहीं मिली है क्योंकि सीएम यहां दौरे पर हैं सभी उनके साथ व्यस्त हैं।’