भारतीय दूतावास भी था निशाने पर

0
120

कोलंबो =श्री लंका में हुए आठ सीरियल धमाकों ने दुनियाभर में दहशत फैला दी है। अबतक 158 लोगों की जान ले चुके इन धमाकों के बारे में श्री लंका पुलिस के पास पहले से इनपुट था, बावजूद इसके धमाकों को नहीं रोका जा सका। जानकारी मिली है कि 10 दिन पहले यह इनपुट था कि देश के प्रमुख चर्चों के साथ-साथ भारतीय हाई कमीशन का ऑफिस भी कट्टरपंथी के निशाने पर है।
मिली जानकारी के मुताबिक, श्री लंका पुलिस के मुख्य अधिकारी ने 10 दिन पहले अलर्ट किया था कि देशभर के मुख्य चर्चों में ऐसे हमले हो सकते हैं। वहां के सीनियर अधिकारियों को यह चेतावनी पुलिस चीफ पूजुथ जयसुंद्रा ने 11 अप्रैल को दी थी। अपनी तरफ से भेजे गए अलर्ट में जयसुंद्रा ने लिखा था, ‘विदेशी खुफिया विभाग ने जानकारी दी है कि एनटीजी (नैशनल तोहिथ जमात) नाम का संगठन सुसाइड हमलों की तैयारी कर रहा है।
संगठन के निशाने पर मुख्य चर्चों के साथ-साथ कोलंबों में स्थित भारतीय हाई कमीशन का ऑफिस भी है।’ एनटीजी श्री लंका का एक कट्टरपंथी मुस्लिम संगठन है यह पिछले साल बौद्ध की मूर्तियों के साथ तोड़फोड़ करके चर्चा में आया था।
श्री लंका के हॉस्पिटल्स में भीड़ बढ़ती जा रही है। लोग अपने रिश्तेदारों को देखने के लिए आतुर हैं। ऐसे में सरकार ने लोगों से ज्यादा भीड़ नहीं लगाने की गुजारिश की है।इनपुट में भले ही एनटीजी का नाम आया हो, लेकिन अबतक किसी संगठन या व्यक्ति ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। लगातार 6 हमलों के बाद हुए 7वें और 8वें धमाके ने वहां के लोगों को चौंका दिया है। अब सरकार ने रात में वहां कर्फ्यू लगाने की बात कही है। इसके अलावा सभी सुरक्षा बलों के जवानों और अधिकारियों की छुट्टी कैंसल कर दी गई है। वहीं फिलहाल स्कूलों को दो दिनों के लिए बंद रखा जाएगा।