अमोल पालेकर को पूरा भाषण नहीं देने मिला

0
71

नई दिल्ली =मशहूर फिल्म अभिनेता अमोल पालेकर को बीच में भाषण रोकने के बाद आज उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपना पक्ष रखा। उन्होंने कहा कि नैशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट के कार्यक्रम में बोलने के लिए मुझे आमंत्रित किया गया था, लेकिन ठीक ढंग से अपना विचार नहीं रखने दिया गया। उन्होंने यह भी कहा कि संस्थान की डायरेक्टर ने कार्यक्रम के बाद उनसे खुले तौर पर नाराजगी जाहिर की।
अमोल पालेकर संस्कृति मंत्रालय के एक कार्यक्रम की आलोचना कर रहे थे, जब उन्हें भाषण से रोका गया। दिग्गज अभिनेता ने इस घटना पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा, ‘डायरेक्टर वहां मौजूद थीं और उन्होंने मुझे कहा कि मुझे अपने विचार रखने से पहले उनसे बात करनी चाहिए थी। मैंने उन्हें जवाब दिया कि क्या आप मेरे भाषण को पहले ही सेंसर करना चाहती थीं।’
पालेकर ने यह भी कहा कि संस्थान की डायरेक्टर ने खुले तौर पर अपनी नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कहा, ‘मैंने डायरेक्टर से कहा कि अगर भाषण नहीं रोका जाता तो मैं मंत्रालय की संस्कृति को बढ़ावा देनेवाले एक अन्य फैसले की तारीफ करनेवाला था। उन्होंने कहा कि हमें किसी बैकहैंड तारीफ की जरूरत नहीं है और वहां से चली गईं।’
अमोल ने अपने भाषण में कहा था कि आर्ट गैलरी इन दिनों अपनी स्वतंत्रता खो रही हैं। उन्होंने आर्ट गैलरी के कामकाज पर भी सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था, ‘बीते साल अक्टूबर महीने तक नैशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट की एक सक्रिय सलाहकार समिति थी, जिसमें स्थानीय कलाकारों का प्रतिनिधित्व होता था। अब इस समिति को अब सीधे संस्कृति मंत्रालय नियंत्रित करता है।’ हालांकि, इसके बाद उन्हें मॉडरेटर ने टोकना शुरू कर दिया और उन्हें अपना भाषण पहले ही रोकना पड़ा।