उत्तर प्रदेश में जहरीली शराब से अब तक तीस मरे

0
90

सहारनपुर =यूपी के सहारनपुर में जहरीली शराब पीने से मरे लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। अभी तक सहारनपुर में 36 लोगों की मौत जहरीली शराब से होने की पुष्टि की जा चुकी है। बाकी मामलों में जांच अभी जारी है। पुलिस आरोपियों को पकड़ने के लिए छापेमारी कर रही है।
सहारनपुर के जिले मैजिस्ट्रेट आलोक पांडे ने बताया है कि अभी तक 46 लोगों के पोस्टमॉर्टम किए जा चुके हैं। डॉक्टरों के मुताबिक, इनमें से 36 लोगों की मौत जहरीली शराब पीने के कारण ही हुई है। इनमें सहारनपुर से इलाज के लिए मेरठ मेडिकल कॉलेज लाए जाने के दौरान मारे गए 18 लोग भी शामिल हैं।
वहीं, सहारनपुर एसएसपी दिनेश कुमार ने बताया है कि तीन पुलिस स्टेशनों में एफआईआर दर्ज की गई हैं। शुक्रवार रात को एक जॉइंट टीम की कार्रवाई में कम से कम 30 लोगों को गिरफ्तार किया गया है । अभी तक 400 लीटर से भी ज्यादा अवैध शराब जब्त की जा चुकी है। उन्होंने बताया कि दबिश तब तक जारी रहेगी, जब तक यह मामला पूरा नहीं हो जाता।
सहारनपुर थाना क्षेत्र के गांव उमाही में जहरीली शराब पीने से यह घटना हुई है। एसएसपी ने बताया कि गांव के ही पिंटू नामक युवक ने यह शराब खरीदकर गांव में बांटी थी। प्रशासन ने मृतकों के परिजन को 2 लाख और गंभीर रूप से बीमार लोगों को 50 हजार रुपये मुआवजा देने का ऐलान किया है। इससे पहले गुरुवार को कुशीनगर में स्पिरिट से बनी जहरीली शराब पीने से 10 हो गई है। लगातार मौतें होने से इलाके में दहशत फैल गई है। प्रशासन में भी हड़कंप मचा हुआ है। थानेदार और आबकारी निरीक्षक समेत 9 लोगों को सस्पेंड कर दिया गया है।
जहरीली शराब से मौत के मामले में शुरुआती पड़ताल में कुशीनगर और सहारनपुर में शराब की खेप बिहार और उत्तराखंड से आने की बात पता चली है। कुशीनगर से डीजीपी मुख्यालय को जानकारी दी गई है कि इस बात के पर्याप्त साक्ष्य मिले हैं कि बिहार के गोपालगंज से जहरीली शराब कुशीनगर आई थी। डीजीपी ओपी सिंह ने बताया है कि उत्तराखंड के रुड़की के एक इलाके से सहारनपुर में जहरीली शराब की सप्लाई की गई थी।