शूटर और मंत्री आमने सामने

0
160

नई दिल्ली =यूथ ओलिंपिक में गोल्ड पर निशाना लगाने वाली भारत की युवा निशानेबाज मनु भाकर ने हरियाणा के मंत्री अनिल विज के नए ट्वीट्स पर फिर प्रतिक्रिया दी है। शुक्रवार को मनु ने अनिल विज के पुराने ट्वीट को टैग करते हुए सवाल किया था कि वह इस ट्वीट की पुष्टि करें कि क्या यह सच है या फिर सिर्फ एक जुमला। भाकर ने अपने इस ट्वीट को अनिल विज को टैग भी किया था। इसके बाद शनिवार सुबह अनिल विज ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया दी थी और अब भाकर ने इस पर मीडिया के सामने प्रतिक्रिया देते हुए सफाई दी है।
भाकर ने आज अनिल विज के नए ट्वीट्स पर प्रतिक्रिया देते हुए मीडिया को बताया, ‘शुरू में यह राशि 10 लाख रुपये थी। उसे उन्होंने (विज) ने बढ़ाकर 2 करोड़ रुपये कर दिया। मैंने इसी आधार पर अपनी योजनाएं बना लीं मैं अपनी प्रैक्टिस को लेकर यह पैसा किस तरह निवेश करूंगी। मुझे बुरा लगा, जब उन्होंने यह राशि कम कर के 1 करोड़ कर दी। यह सचमुच अच्छा है कि अब एक बार फिर उन्होंने दोबारा इनाम की इस राशि को 2 करोड़ रुपये कर दिया है।’
इससे पहले शुक्रवार को माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट टि्वटर पर अक्रामक अंदाज में दिखीं भाकर ने हरियाणा सरकार में मंत्री विज पर सवाल उठाए थे। उन्होंने अब तक इनाम की राशि नहीं मिलने पर विज के पुराने ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए सवाल किया था क्या यह राशि सचमुच उन्हें मिलेगी या फिर यह एक जुमला था।
भाकर यहीं नहीं रुकीं उन्होंने एक अन्य ट्वीट में ओलिंपिक मेडलिस्ट रेसलर योगेश्वर दत्त के एक पुराने ट्वीट को भी रीट्वीट किया था। अपने दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा, ‘उस वक्त मैं इस बात को समझने के लिए काफी छोटी थी, लेकिन आज समझ गई हूं कि वह क्या साबित करना चाहते थे…। कुछ लोग खुद को हमेशा सही साबित करना चाहते हैं, जबकि वह जानते हैं वह गलत हैं। हरियाणा की बदकिस्मती।’
मनु के इन ट्वीट्स पर आज सुबह अनिल विज ने भी प्रतिक्रिया देते हुए 2 ट्वीट किए। हरियाणा सरकार के मंत्री अनिल विज ने मनु के ट्वीट पर सख्त लहजे में प्रतिक्रिया देते हुए लिखा, ‘खिलाड़ियों में कुछ अनुशासन होना चाहिए। भाकर ने इस मुद्दे को लेकर जो विवाद खड़ा किया उस पर उन्हें शर्मिंदा होना चाहिए। उन्हें अभी बहुत आगे तक जाना है। उन्हें अपने खेल पर ध्यान देना चाहिए।’
इसके अलावा एक अन्य ट्वीट में अनिल विज ने लिखा, ‘मनु भाकर को इस संदर्भ को सार्वजनिक मंच पर लाने से पहले इस मसले पर खेल विभाग से पुष्टि करनी चाहिए थी। यह बहुत शर्मनाक है कि राज्य सरकार को बदनाम करने की कोशिश की गई, जो देश में सबसे ऊंचे पुरस्कार दे रही है। भाकर को जरूर जरूर जरूर 2 करोड़ रुपये मिलेंगे। जैसा मैं उस समय के नोटिफिकेशन के आधार पर पहले ही ट्वीट कर चुका हूं।’