कमलनाथ के मंत्रीमंडल में 28 मंत्री शामिल

0
327

भोपाल =मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के मंत्रिमंडल में 28 विधायकों को मंत्री बनाया गया है। राजभवन के लॉन में आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। गत 11 दिसंबर को राज्य में हुए विधानसभा चुनाव के परिणाम आए थे। इसके बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ ने 17 दिसंबर को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी, तभी से मंत्रिमंडल के गठन की कोशिशें जारी थीं।
कमलनाथ के मंत्रिमंडल में डॉ. गोविंद सिंह, आरिफ अकील, बृजेंद्र सिंह राठौर, सज्जन सिंह वर्मा, बाला बच्चन, लाखन सिंह यादव, विजय लक्ष्मी साधो, हुकुम सिंह कराड़ा, तुलसी सिलावट, गोविंद राजपूत, ओमकार सिंह मरकाम, सुखदेव पांसे, प्रभुराम चौधरी, जयवर्धन सिंह, हर्ष यादव, कमलेश्वर पटेल, लखन घनघोरिया, तरुण भनोट, पी सी शर्मा, सचिन यादव, सुरेंद्र सिंह बघेल, जीतू पटवारी, उमंग सिंगार, प्रद्युम्न सिंह तोमर, प्रदीप जायसवाल, महेंद्र सिंह सिसौदिया, इमरती देवी और प्रियव्रत सिंह शामिल किए गए हैं।
नवगठित मंत्रिमंडल में कांग्रेस के गुटीय संतुलन के साथ क्षेत्रीय संतुलन का भी ध्यान रखने की कोशिश की गई है। इनमें मालवा-निमाड़ से सबसे ज्यादा 9 मंत्रियों ने शपथ ली है। वहीं, ग्वालियर-चंबल क्षेत्र से पांच, महाकौशल से चार, बुंदेलखंड से तीन, मध्य से छह और विंध्य से एक विधायक मंत्री बनाए गए हैं। सूत्रों के मुताबिक सिंधिया गुट के 7 लोगों को मंत्रिमंडल में जगह मिली है, वहीं कमलनाथ और दिग्विजय खेमे के 21 विधायक मंत्री बनने में कामयाब रहे हैं। दिग्विजय सिंह के पुत्र जयवर्धन सिंह को भी मंत्री बनाया गया है।
मंत्रियों के शपथ लेने के साथ ही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने केबिनेट की पहली अनौपचारिक बैठक 25 दिसंबर को शाम 5 बजे प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में बुलाई है। साथ ही कांग्रेस ने अपने विधानसभा अध्यक्ष के उम्मीदवार के नाम का भी ऐलान कर दिया है। कांग्रेस की ओर गोटेगांव के विधायक एनपी प्रजापति विधानसभा अध्यक्ष के उम्मीदवार होंगे।