लोकसभा चुनाव बिहार में सीटों को लेकर एनडीए में फंसा पेंच

0
82

नई दिल्ली = 2019 के आम चुनाव में एनडीए में बिहार को लेकर सीटों की स्थिति साफ नहीं है। नई दिल्ली में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की है और अब वह बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह से मिलने वाले हैं।
माना जा रहा है कि नीतीश और शाह के बीच मुलाकात के दौरान बिहार में सीट बंटवारे की संभावनाओं पर मंथन होगा। बिहार में सीट बंटवारे को लेकर एनडीए में खींचतान है। जहां एक ओर जेडीयू आधी सीटों पर दावेदारी जता रही है वहीं राम विलास पासवान की एलजेपी भी सात सीटों से कम पर मानने को तैयार नहीं है। इन सबके बीच उपेन्द्र कुशवाहा की आरएलएसपी भी झुकने के मूड में नहीं है।
बिहार में लोकसभा की कुल 40 सीटें हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी, आरएलएसपी और एलजेपी ने मिलकर चुनाव लड़ा था। अब राज्य की सत्ता पर काबिज जेडीयू भी एनडीए का हिस्सा है, ऐसे में सीटों के बंटवारे को लेकर लंबे समय से ऊहापोह की स्थिति बनी हुई है।
सूत्रों के मुताबिक बिहार में एनडीए गठबंधन में बड़े भाई के तौर पर जेडीयू 50-50 का फॉर्म्युला चाहती है। इसके तहत राज्य की 40 में से 20 सीटों पर पार्टी अपना दावा ठोक रही है। वहीं, एलजेपी के 7 सीटों पर अड़ने से केवल 13 सीटें ही बचती हैं। अगर जेडीयू का फॉर्म्युला माना जाता है तो बीजेपी के अंदर से भी आवाजें उठ सकती हैं। जेडीयू ने 2014 के लोकसभा चुनाव में सिर्फ 2 सीटों पर जीत हासिल की थी, जबकि बीजेपी ने 21 लोकसभा सीटों पर कामयाबी पाई थी और पार्टी कम से कम इन सीटों को छोड़ने के पक्ष में नहीं है।