कांग्रेसियो के टूटे मन को राहुल की संजीवनी

0
140

जबलपुर मध्य प्रदेश = सड़कों पर उमड़ता भीड़ का सैलाब, चौतरफा फहराता कांग्रेस का झंडा, राहुल गांधी की जय जय कार से गूंजता माहौल, राहुल गाँधी के पीछे भागते कांग्रेसियों कार्यकर्ताओ का जबरदस्त हुजूम, ये दृश्य कल जबलपुर की सड़कों पर जब संस्कारधानी के लोगो ने देखे तो उनके मुंह से बस यही निकला की राहुल गांशी कांग्रेसियो में जान फूंक गए…. लम्बे अरसे से अखिलभारतीय कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी के रोड शो की तैयारियों में जुटे कांग्रेसी कार्यकर्ताओ के उत्साह को देख राहुल गांधी भी अभिभूत हो गए करीब 6 किलोमीटर के लम्बे रोड शो के दौरान जिस जिस सड़क से उनका काफिला गुजरा वंहा तिल रखने भी जगह नहीं थी, रामपुर चौराहे से लेकर रद्दी चौकी के लम्बे मार्ग में ऐसी कोई दीवाल कोई खम्भा नहीं था जिसमे राहुल गाँधी के बैनर न टंगे हो सारा मार्ग जैसे होर्डिंग्स और बेनरो से पट सा गया था जाहिर है कांग्रेस में उत्साह की मानो बाद सी आ गई थी ….
मध्यप्रदेश में विधान सभा चुनावों की घोषणा हो चुकी है 28 नवम्बर को प्रदेश में मतदान होगा और ११दिसंबर को प्रदेश के मतदातों के मन की बात सामने आ जाएगी लगभग 15 बरस से प्रदेश में बीजेपी का राज है निश्चित तौर पर ऐसे में कांग्रेसियों के मन टूटे हुए थे और यही कारण था क़ि राहुल गाँधी ने अपने रोड शो के लिए महाकौशल के ह्रदय बिंदु और बीजेपी के गढ कहे जाने वाले जबलपुर को चुना…. वैसे जब से कमलनाथ ने प्रदेश अध्यक की कुर्सी संभाली है और जबलपुर के बेटे राजयसभा सदस्य विवेक तन्खा के साथ ज्योतिरादित्य की तिकड़ी ने चुनावी कमान को अपने हाथ में लिया है तबसे कांग्रेसियो में एक जबरदस्तऊर्जा का संचार हुआ है और उस ऊर्जा को राहुल गाँधी के रोड शो ने दुगना कर दिया इसमें संदेह नहीं है इधर कुछ टी वी चैनलों के चुनाव पूर्व सर्वे ने भी कांग्रेसियो में आशा भर दी है इनके मुताबिक राजस्थान मध्यप्रदशेश और छत्तीसगढ़ में बीजेपी के हाथो से सत्ता खिसकने वाली है राहुल गांशी के रोड शो केदौरान टिकिट के दावेदारों ने भी अपनी भरपूर शक्ति का प्रदर्शन किया हर उम्मीदवार अपने अपने स्तर पर ये दिखाना चाहता था क़ि वो टिकिट का सही उम्मीदवार है और इसके लिए जैसे पोस्टरों और बेनरो को टांगने की होड़ सी लग गयी थी बहरहाल राहुल गांधी ने कांग्रेसितो के चेहरों पर आशा की नई किरण पैदा कर दी है और इसका प्रतिफल इस बार के चुनाव में देखने मिल सकता है बशर्ते कांग्रेस गुटबाजी के भंवर में न फंसे उसे और उसके नेताओ को यही संकल्प लेना होगा की उसे प्रत्याशी को नहीं बल्कि कांग्रेस को जितना है प्रत्याशी कोई नहीं हो टिकिट किसी को भी मिले पर उसकी आँखों के सामने केवल पंजा ही रहना चाहिये आगा ऐसेहोते है तो कांग्रेस को सत्ता में आने से कोई नहीं रोक सकता ………..