कैसे भगाये अप्पने घर से कीड़े मकोड़ों को

0
251

बरसात का मौसम वैसे तो सुहाना होता है पर ये मुसीबत का सबब भी बनता है क्योकि इस मौसम में तरह तरह के कीड़े मकोड़े घर के भीतर आ जाते है जो न केवल परेशानी पैदा करते है बल्कि बीमारियों को भी निमंत्रण देते है , कीड़े-मकोड़ों को भगाने के लिए अनेक कीटनाशक बाजार में मिल जाते है पर उनमें मिले हुआ हानिकारक तत्व नुकसान भी पंहुचते है ऐसे में बेहतर यही होगा की घरेलू उपायों से इन कीड़े मकोड़ों का सामना किया जाए
तुलसी का इसका पौधा खिड़की के पास रखने भर से उस रास्ते से मच्छरों का आना बंद हो जाएगा, साथ ही तुलसी मच्छरों के प्रजनन को भी रोकती है। तेजपत्ता की महक से कॉक्रोच भागते हैं। तेजपत्ता को पीसकर किचन में कॉक्रोच आने वाली जगह पर रख दीजिए। पुदीना भी मच्छर भगाने में कारगर है। आप इसका पौधा भी लगा सकती हैं।
एक स्प्रे बोतल में डिस्टिल्ड वॉटर भर लें। इसमें 6-6 बूंद लेमन, यूकेलिप्टस और सिट्रोनेला तेल डालें। साथ ही आधा चम्मच बादाम या नारियल का तेल भी मिला लें। हर इस्तेमाल से पहले इसे अच्छे से हिला लें। खाली हो चुकी ऑल आउट की शीशी से भी मच्छर मारने की दवा तैयार कर सकती हैं। इसमें नीम का तेल और कपूर डालें। मशीन में लगाकर हमेशा की तरह इस्तेमाल करें। मच्छर दूर रहेंगे। एक स्पंज में कुछ बूंदें लैवेंडर की डालकर रख दीजिए। इसकी खुशबू से कीड़े घर में नहीं आएंगे।
पोंछे के पानी में सिरका को मिलाने से फर्श भी चमकता है और चीटियों और मकड़ियों से निजात भी मिल जाती है। पोंछे के पानी में इसके अलावा नीम की पत्तियां भी पीसकर मिला सकती हैं। फिटकरी, नीबू का रस और कपूर भी कारगर हैं।
एक कांच की शीशी, बेकिंग सोडा और एसेंशियल ऑयल की जरूरत होगी। शीशी के ढक्कन में कुछ छेद कर लीजिए। पचास ग्राम बेकिंग सोडा शीशी में भरकर उसमें दस-दस बूंदे नीबू, यूकेलिप्टस और सिट्रोनेला एसेंशियल ऑयल की डाल दें। आप इसमें लैवेंडर भी मिला सकती हैं। हो गया रूम फ्रेशनर तैयार। जरूरत के हिसाब से इसे कहीं भी रख दें।
गेंदा दूसरे पौधों के लिए गार्ड का काम करता है। गेंदा अन्य पौधों को कीड़ो से तो बचाता ही है, मच्छर भी इसकी महक से दूर रहते हैं। इसी तरह मच्छर और मक्खी दोनों को ही लैवेंडर की महक से बेहद चिढ़ है। पिटूनिया नाम का फूल टिड्ढे को भगाता है, जो कि बारिश के दिनों में आम समस्या बन जाते हैं। गुलदाउदी से आपको चीटियां, कॉक्रोच, घुन जैसे ढेरों कीटाणुओं से निजात मिल सकती है।
, वहां पर वैसलीन लगा दें या फिर बेबी पाउडर छिड़क दें।
पिपरमिंट ऑयल से मकड़ी जैसे कई कीड़े दूर रहते हैं।
प्याज काटकर छिपकली आने वाली जगह पर रख दें। छिपकली प्याज की महक से दूर भागती है। यह काम लहसुन भी अच्छी तरह से कर लेता है।
नमक और पानी को बराबर मात्रा में मिलाकर दीमक पर छिड़कें।
नवजात बच्चे के पास लैवेंडर की सूखी पत्तियां रखने से मच्छर से बचाव होगा।
घर में गूगल या लुबान से धुआं करें। हर तरह के कीड़े-मकोड़ों से छुटकारा मिलेगा।