बाउंसर पर हमले के आरोप से आदित्य पंचोली बरी

0
112

मुंबई = बॉलिवुड अभिनेता आदित्य पंचोली को बांद्रा मेट्रोपॉलिटन कोर्ट ने नाइट क्लब के बाउंसर पर हमला करने के मामले में बरी कर दिया है। अदालत ने पंचोली के खिलाफ साक्ष्यों की कमी के कारण यह फैसला सुनाया। बाउंसर पर हमला करने का यह मामला मार्च 2015 का है। आदित्य पंचोली पर आरोप लगा था कि उन्होंने जुहू स्थित एक नाइट क्लब के बाउंसर पर कथित रूप से अपने सेल फोन से हमला किया था। रिपोर्ट्स में कहा गया था कि पंचोली उस समय शराब के नशे में थे।
दरअसल, 7 मार्च 2015 को मुंबई के जुहू स्थित एक पांच सितारा होटेल ‘सी प्रिंसेस’ में वीकेंड की मस्ती की शुरुआत हो रही थी। वहांआदित्य पंचोली भी पहुंचे थे। पब में पहले से चल रहे इंग्लिश गानों को बंद कर पंचोली ने हिन्दी गाने चलाने की डिमांड की, जिसके लिए डीजे ने इनकार कर दिया। आरोप लगा कि इससे पंचोली को गुस्सा आ गया। गुस्से में आदित्य पंचोली ने वहां डीजे के साथ गाली-गलौज की। इसके बाद आदित्य ने डीजे के म्यूजिक सिस्टम से भी छेड़खानी की कोशिश की थी।
मामला आगे बढ़ता देख बाउंसरों ने उन्हें रोकने की कोशिश की। आरोप लगा कि पंचोली उनके साथ भी मारपीट पर उतारू हो गए थे। इस लड़ाई-झगड़े में आदित्य और बाउंसरों के कपड़े भी फट गए थे। इसी बीच पंचोली ने कथित रूप से मंदार नामक एक बाउंसर के सिर पर अपने मोबाइल फोन से हमला कर दिया था, जिससे बाउंसर का सिर फट गया। घायल बाउंसर को हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां उसके सिर पर पांच टांके लगे।
घायल बाउंसर के बयान के आधार पर पंचोली के खिलाफ अलग-अलग सेक्शन के तहत मामला दर्ज किया गया था। इसके बाद पंचोली की गिरफ्तारी और मेडिकल जांच हुई। जांच में सामने आया था कि आदित्य पंचोली शराब के नशे में थे। उस दिन उन्हें रात भर पुलिस स्टेशन में रखा गया और दूसरे दिन दोपहर को कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने उन्हें 50,000 रुपये के निजी मुचलके पर रिहा कर दिया था। साथ ही वह मोबाइल फोन भी सरेंडर करने को कहा था, जिससे उन्होंने बाउंसर पर वार किया था।