बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के घर सीबीआई का छापा

0
229

पटना =मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड में अब सीबीआई जांच की आंच बिहार सरकार में पूर्व समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा तक पहुंचने लगी है। सीबीआई टीम ने मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस को लेकर शुक्रवार को मंजू वर्मा के पटना और बेगूसराय स्थित आवासों में छापेमारी की। इस जांच की वजह से वहां हड़कंप मच गया।
बिहार के मुजफ्फरपुर में शेल्टर होम में 34 लड़कियों से रेप का खुलासा होने के बाद राज्य की सियासत गरमा गई थी। टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज की रिपोर्ट के बाद इस सनसनीखेज कांड का पता चला था।
दबाब बढ़ने के बाद नीतीश सरकार ने इस मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश की। साथ ही सरकार ने समाज कल्याण विभाग के सहायक निदेशक देवेश कुमार को निलंबित कर दिया। इसके अलावा भोजपुर, मुंगेर, अररिया, मधुबनी और भागलपुर सामाजिक कल्याण विभाग के सहायक निदेशकों को भी सस्पेंड किया गया। केंद्र की मंजूरी के बाद अब सीबीआई इस घटना की तफ्तीश कर रही है। जांच एजेंसी ने ब्रजेश ठाकुर के बेटे से भी इस मामले में पूछताछ की थी। बाद में उसे छोड़ दिया गया था।
गौरतलब है कि पिछले दिनों पुलिस अधिकारियों ने शहीद खुदीराम बोस सेंट्रल जेल में औचक निरीक्षण किया था। इस दौरान ब्रजेश ठाकुर की तलाशी ली गई। बताया जा रहा है कि शेल्टर होम केस के प्रथम दृष्टया आरोपी ब्रजेश ठाकुर के पास से केस से संबंधित कुछ दस्तावेज बरामद हुए। इतना ही नहीं उसके पास से 40 फोन नंबर भी मिले हैं। इन नंबरों में बिहार के एक मंत्री का भी नंबर है। ब्रजेश के पास से दस्तावेज बरामद होने के बाद यहां तैनात तीन पुलिस अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया गया।