कैसे कैसे लोगो से गाली दिलवा रहे है आप -नीतीश ने मीडिया से कहा

0
55

पटना =बिहार के मुजफ्फरपुर में हुए शेल्टर होम रेप केस में सियासी उबाल और विपक्ष के चौतरफा दबाव के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक बार फिर कहा है कि किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा। जो भी गड़बड़ करेगा वो अंदर जाएगा, फिर चाहे कोई भी हो। इस दौरान उन्होंने मीडिया से भी कहा कि वह इस मामले में सरकार की ओर से उठाए गए निर्णायक फैसलों को भी जनता को दिखाएं।
इस दर्दनाक मामले को लेकर लगातार आलोचनाओं का शिकार हो रहे नीतीश कुमार ने कहा, ‘आप लोग जरा कृपा करके पॉजिटिव फीड भी देख लें। कुछ निगेटिव चीजें हो गईं और उसी को लेकर चल रहे हैं। जो गड़बड़ करेगा, वो अंदर जाएगा। उसको बचाने वाला भी नहीं बचेगा, वो भी अंदर जाएगा।’
नीतीश कुमार ने सख्त लहजे में कहा, ‘हम किसी को भी बख्शने वाले नहीं हैं। मैंने आज तक कोई समझौता नहीं किया है। बाकी हम ही को गाली देना है तो दीजिए। कैसे-कैसे लोगों से गाली दिलवा रहे हैं।’ नीतीश सरकार ने अब लापरवाही बरतनेवाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है।
मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में बच्चियों से दरिंदगी के मामले में सियासी घमासान और मुख्य विपक्षी पार्टी आरजेडी की तरफ से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इस्तीफे की मांग के बीच सत्तारूढ़ जेडीयू का बड़ा बयान सामने आया है। जेडीयू ने दो टूक कहा है कि सीएम नीतीश कुमार इस्ताफा नहीं देंगे। आरोपियों के खिलाफ सरकार सख्त है और कार्रवाई जारी है। इस दौरान जेडीयू ने आरोप लगाया कि शराब और बालू माफिया के दबाव में आरजेडी नीतीश का इस्तीफा मांग रही है।
नीतीश सरकार ने अब लापरवाही बरतनेवाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है। समाज कल्याण विभाग के सहायक निदेशक देवेश कुमार को निलंबित कर दिया गया है। भोजपुर, मुंगेर, अररिया, मधुबनी और भागलपुर सामाजिक कल्याण विभाग के सहायक निदेशकों को सस्पेंड किया गया है। वहीं मामले के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के खिलाफ भी शिकंजा कसना शुरू हो गया है।
उल्लेखनीय है की शेल्टर होम में 34 लड़कियों के साथ दरिंदगी के इस मामले ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है। इसे लेकर देशभर में उबाल है। शनिवार को विपक्षी पार्टियों ने नई दिल्ली में जंतर-मंतर पर नीतीश सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। आरजेडी की तरफ से बुलाए गए इस धरने में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी शामिल हुए। सभी ने दोषियों के खिलाफ त्वरित कार्रवाई की मांग की।