थरूर के हिन्दू पकिस्तान के बयान पर बवाल

0
81

नई दिल्ली =बीजेपी ने ‘हिंदू पाकिस्तान’ वाले बयान को लेकर कांग्रेस सांसद शशि थरूर को निशाने पर लिया है। बीजेपी ने थरूर के बयान को वोट बैंक पॉलिटिक्स से जोड़ते हुए कांग्रेस और दूसरी पार्टियां के सेक्युलरिज्म को फर्जी करार दिया। बीजेपी की ओर से पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि कांग्रेस मोदी के खिलाफ बोलने के लिए देश के लोकतंत्र पर हमला बोल रही है। उन्होंने इसे हिंदुओं पर हमला भी करार दिया।उल्लेखनीय है की कांग्रेस के बड़े नेता शशी थरूर ने केंद्र में सत्तारूढ़ पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा था कि 2019 में बीजेपी के दोबारा जीतने पर देश ‘हिंदू पाकिस्तान’ बन जाएगा।
उधर, थरूर अपने इस बयान पर अड़े हुए हैं। थरूर ने फेसबुक पोस्ट के जरिए बीजेपी पर अपने हमले को आगे बढ़ाया। उन्होंने लिखा, ‘मैंने ऐसा पहले भी कहा है और एक बार फिर कहूंगा। पाकिस्तान का जन्म एक धर्म विशेष की आबादी के लिए हुआ था और जिसने अपने देश के अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव किया। अल्पसंख्यकों को पाकिस्तान में उनके मौलिक अधिकारों से भी वंचित रखा गया। भारत ने उस तर्क को कभी स्वीकार नहीं किया जिसके आधार पर दो देशों का बंटवारा हुआ था।’
कांग्रेस सांसद ने बीजेपी और आरएसएस पर हमला बोलते हुए कहा कि बीजेपी-आरएसएस का हिंदू राष्ट्र का विचार पाकिस्तान की उसी सोच का प्रतिविंब है। उन्होंने लिखा, ‘एक राज्य जहां बहुसंख्यक देश में अल्पसंख्यकों को दबाकर रखते हैं और वह हिंदू पाकिस्तान ही होगा। इसके लिए हमने आजादी की लड़ाई नहीं लड़ी थी। न ही भारत के ऐसे स्वरूप की व्याख्या हमारे संविधान में की गई है।’
बीजेपी ने थरूर के बयान के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से माफी मांगने को कहा है। बीजेपी की प्रेस कॉन्फ्रेंस में पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा ने थरूर के बयान पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को घेरते हुए कहा कि उनके कहने के बाद ही पार्टी के नेता हिंदुओं का अपमान कर रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि राहुल गांधी हिंदुओं से नफरत करते हैं और वह भी इस तरह के बयान दे चुके हैं। पात्रा ने कहा कि पूर्व में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, दिग्विजय सिंह, सैफुद्दीन सोज, सुशील कुमार शिंदे भी इस तरह के बयान दे चुके हैं।
वहीं, केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा, ‘यह शशि थरूर का भ्रम है और ऐसा लग रहा है कि न तो कांग्रेस सत्ता में है और न ही आने की उम्मीद है। यह कांग्रेस पार्टी ही है जिसने हमारे संविधान से खिलवाड़ कर लोगों के अधिकार और आजादी छीनी थी।’ वहीं बीजेपी के प्रवक्ता जेवीएल नरसिम्हा ने कहा कि कांग्रेस और दूसरी पार्टियों का धर्मनिरपेक्षतावाद फर्जी है। कांग्रेस बस अल्पसंख्यक समुदाय को लुभाना चाहती है।
इधर थरूर का समर्थन करते हुए एनसीपी नेता माजिद मेनन ने कहा, ‘कांग्रेस सांसद के बयान का गलत अर्थ निकाला जा रहा है। उनके कहने का मतलब है कि अगर बीजेपी 2019 में सत्ता में आती है तो भारत में भी उसी तरह की समस्याएं हो सकती हैं जैसी आज पाकिस्तान में हैं।’ शरद यादव ने थरूर के बयान पर कहा, ‘जैसा 4 साल से काम हो रहा है कोई भी सोचेगा कि हिंदू राष्ट्र बनाने के लिए चल रहे हैं। एक धर्म का राज करना चाहते हैं। इनकी 2019 में विदाई हो जाएगी। ये 4 साल केवल धार्मिक और जातिगत उन्माद में लगे रहे। गाय, ताजमहल, जिन्ना, टीपू सुल्तान, लिन्चिंग जैसे कामों में लगे रहे। इनका मंत्री लिन्चिंग करने वालों का स्वागत करता है। राजनीति और धर्म मिलने पर पाकिस्तान बन जाता है। भारत का संविधान देश की जनता के मिजाज को देख कर बना है। बीजेपी कितना भी प्रयास कर ले देश की साझा विरासत बनी रहेगी।’