अब गिरिराज सिंह दंगे के आरोपियों से मिलने जेल पंहुचगये

0
40

नवादा =एनडीए सरकार में केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा की मॉब लिन्चिंग के आरोपियों से मुलाकात का मामला अभी थमा भी नहीं था, इसी बीच एक और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह बिहार दंगों के आरोपियों से मिलने शनिवार को नवादा जेल पहुंच गए। इस मामले को लेकर विपक्ष भारतीय जनता पार्टीपर हमलावर होने की कोशिश में जुट गया है।
नवादा जेल में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने शनिवार को बिहार दंगे के आरोपियों से मुलाकात की। यह मुलाकात तकरीबन 30 मिनट तक चली, जहां गिरिराज सिंह ने उनका हालचाल जाना। केंद्रीय मंत्री ने कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी पर दुख जताते हुए कहा कि उन्हें फंसाया गया है।
एएनआई की खबर के मुताबिक गिरिराज सिंह ने आरोप लगाया कि राज्य सरकार सांप्रदायिक सौहार्द के लिए हिंदुओं को दबाने की मानसिकता रखती है। उन्होंने कहा, ‘जिस तरह से जीतूजी और कैलाशजी को फंसाया गया है, यह दुर्भाग्यपूर्ण है। जब वर्ष 2017 में रामनवमी के दौरान तनाव व्याप्त हुआ था तो उन्होंने क्षेत्र में शांतिपूर्ण माहौल रखने के लिए प्रयास किया था। अकबरपुर में जब मां दुर्गा की प्रतिमा तोड़ दी गई थी, तब उन्होंने ऐसा ही किया।’
केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा, ‘यह बहुत चौंकानेवाला है कि सरकार को लगता है कि सांप्रदायिक सद्भाव तभी होगा जब वह हिंदुओं को दबाएंगे। मैं राज्य सरकार और समाज से निवेदन करता हूं कि वह इस तरह का रवैया न अपनाएं।’ गौरतलब है कि 3 जुलाई को बजरंग दल के संयोजक जितेंद्र प्रताप को वर्ष 2017 में हुए दंगों के लिए गिरफ्तार कर लिया गया था। प्रताप की गिरफ्तारी के बाद 4 जुलाई को उनके समर्थकों ने प्रदर्शन किया और सड़कों पर उतर आए।
झारखंड के रामगढ़ जिले में एक मीट कारोबारी मोहम्मद अलीमुद्दीन की हत्या के मामले के 11 आरोपियों में 8 आरोपियों को पिछले हफ्ते जमानत पर रिहा कर दिया गया, जिसके बाद ये सभी नागरिक उड्डयन मंत्री जयंत सिन्हा के हजारीबाग स्थित आवास पहुंचे थे। यहां जयंत ने उनका माला पहनाकर स्वागत किया। यह तस्वीर वायरल होने के बाद जयंत सिन्हा की आलोचना शुरू हो गई। इस पर केंद्रीय मंत्री ने अपनी सफाई में कहा, ‘जब उन लोगों को जमानत मिली तो वह मेरे घर आए। मैंने उन सभी को बधाई दी। भविष्य में कानून को उसका काम करने दें। जो आरोपी हैं उन्हें सजा मिलेगी और जो निर्दोष होंगे वह मुक्त होंगे।’
जयंत सिन्हा की तस्वीर पर उनके पिता पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता यशवंत ने ट्वीट कर लिखा, ‘कुछ समय पहले मैं लायक बेटे का नालायक बाप था। लेकिन अब रोल बदल गए हैं। यही ट्विटर है। मैं अपने बेटे के कृत्य को जायज नहीं ठहराता हूं लेकिन मुझे पता है कि इसके बाद भी मुझे गालियां सुनने को मिलेंगी। आप कभी जीत नहीं सकते।’