छह माह में तीन तबादले से आहत है राजा बाबू सिंह

0
332

भोपाल। मध्य प्रदेश में इन दिनों तबादलों का दौर जारी है| कई अफसरों का इस बीच कई बार तबादला आदेश ही निकले है ऐसा ही एक मामला मध्यप्रदेश केडर केदार के वरिष्ठ आईपीएस अफसर का है|
एमपी कैडर के एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी राजाबाबू सिंह बार बार तबादले से दुखी हैं| छह माह में ही तीन बार तबादले से परेशान होकर श्री सिंह ने मुख्य सचिव बीपी सिंह को अपनी पीड़ा बताई है| राजा बाबू सिंह का कहना है कि बार-बार ट्रांसफर से पारिवारिक जिंदगी में व्यवधान उत्पन्न हो रहा है। मध्यप्रदेश कैडर के 1994 बैच के आईपीएस अफसर राजा बाबू सिंह| को हाल ही में पुलिस महानिरीक्षक सुरक्षा एवं समन्वय मप्र भवन नई दिल्ली से पुलिस महानिरीक्षक विसबल जबलपुर पदस्थ किया गया है| इससे पहले उनका इसी साल तीन बाद तबादला हो चुका है| उन्होंने सीएस को लिखे पत्र में कहा है कि पिछले छह माह में तीन बार उनका तबादला हो चुका है। बार-बार तबादला होने से उनकी पारिवारिक जिंदगी में व्यवधान हो रहा है।
उल्लेखनीय है कि राजाबाबू सिंह मध्य प्रदेश कैडर के वरिष्ठ आईपीएस अफसर हैं और उन्हें वीरता पदक से भी सम्मानित किया जा चुका है| उत्तरप्रदेश के बांदा जिले के पचनेही के रहने वाले राजा बाबू सिंह को बुंदेलखंड क्षेत्र का गौरव मानते हुए वीरता के लिए पुलिस पद से सम्मानित किया जा चुका है। तब राजाबाबू भिंड में पुलिस अधीक्षक के तौर पर कार्यरत थे और उन्होंने कई दस्यु गिरोहों का साहसिक ढंग से सफाया कर दिया था। वे केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर भारत-तिब्बत सीमा पर भी रह चुके हैं। उन्हें अरुणाचल प्रदेश में कमांडर के रूप में भी पदस्थ किया गया था।
राजा बाबू सिंह ने मुख्य सचिव को लिखे अपने पत्र में मांग की है कि मेरी पोस्टिंग यथावत रहने दी जाए। क्योंकि पिछले छह माह में तीन तबादले झेल चुका हूं। उन्होंने लिखा तबादलों से न सिर्फ मानसिक तनाव मिलता है, बल्कि परिवार भी परेशान होता है| उन्होंने बताया कि डॉ बेटियां हैं जो उच्च शिक्षा में है और दिल्ली और एनसीआर के अलग अलग कॉलेजों में पढ़ रही हैं और इस पड़ाव पर उन्हें मेरी उपस्थिति और निर्देशन की आवशयकता है|