रोज ३२० किलो मीटर गाड़ी दौड़ाते है मंत्री जी

0
246

बेंगलुरु = अन्धविश्वास व्यक्ति को किसी भी हद तक मेहनत करने के लिए मजबूर कर सकता है और जब आपके पास सुविधाएं हों तो इसको मानना मुश्किल भी नहीं रह जाता। शायद यही वजह है कि कर्नाटक के लोक निर्माण विभाग मंत्री एचडी रेवन्ना हर दिन अपने ऑफिस आने-जाने के लिए 10-20 नहीं बल्कि 342 किलोमीटर का रास्ता तय करते हैं। इसके पीछे कारण यह है कि वास्तु के हिसाब से रेवन्ना जिस बंगले को अपने लिए भाग्यशाली मानते हैं वह खाली नहीं है।
बेंगलूर मिरर की खबर के मुताबिक बेंगलुरु के कुमारकृपा पार्क ईस्ट स्थित गांधी भवन के पास बने खूबसूरत बंगले में कांग्रेस नेता एचसी महादेवप्पा रहते हैं। रेवन्ना इसी बंगले में रहना चाहते हैं, क्योंकि उनका मानना है कि उनके राजनीतिक करियर के लिए यह बंगला एकदम सही है। लेकिन उन्हें अभी तक यह बंगला मिला नहीं है, इसलिए वह हर दिन सुबह 5 बजे उठते हैं और 8 बजे बेंगलुरु से लगभग 170 किमी दूर होलनरसीपुरा जिले में बने घर से निकलते हैं। रास्ते में मंदिरों के दर्शन करते हुए वह 11 बजे विधान सौध पहुंचते हैं। दिनभर का काम और बैठकें निपटाने के बाद रात करीब 8:30 बजे वह फिर 170 किलोमीटर की दूरी तय कर रात करीब 11 बजे घर पहुंचते हैं।
रेवन्ना वास्तुशास्त्र में काफी विश्वास रखते हैं। शिवानंद सर्कल के इस बंगले में वह 2004-2007 में रह चुके हैं। पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया भी इस बंगले में तब रहे थे, जब वह नेता प्रतिपक्ष थे। वह भी इस बंगले को लकी मानते थे, क्योंकि इसमें रहते हुए वह मुख्यमंत्री बने थे। हालांकि, रेवन्ना का कहना है कि अभी तक उन्हें बंगला अलॉट नहीं हुआ है। इसलिए, वह रोज इतना सफर करते हैं। उन्होंने किसी ज्योतिषी के कहने पर ऐसा करने से इनकार किया है।
हालांकि, बताया जाता है कि रेवन्ना खुद को अंधविश्वासी कहने से हिचकते नहीं हैं। वह कोई काम ज्योतिषी से पूछे बिना या समय देखे बिना नहीं करते हैं। वह होलनरसीपुरा भी ज्योतिषी के कहने पर ही गए थे। एचडी कुमारस्वामी के शपथग्रहण, कैबिनेट विस्तार, विधानसभा सत्र , बजट का दिन और समय भी उन्होंने तय किया था। कुमारस्वामी उन्हीं के कहने पर शपथग्रहण के लिए नंगे पैर पहुंचे थे। यहां तक कि सदन के दूसरे सदस्य भी सरकार की स्थिरता के लिए रेवन्ना से समय पूछकर ही कोई काम करने की सलाह देने लगे हैं।
बताया जाता है कि वोट देते हुए रेवन्ना ईवीएम की दिशा बदल देते हैं। जनता दल (सेक्युलर) के मुख्यालय के निर्माण के दौरान उन्होंने सीढ़ियों के वास्तु के अनुसार न बनने पर उन्हें गिरा दिया था। रेवन्ना सिर्फ दिन और समय नहीं बल्कि पूजा में भी काफी विश्वास करते हैं। जब भी वह बेंगलुरु में होते हैं, सुबह 10 बजे से पहले कम से कम 6 मंदिरों में दर्शन करते हैं। एचडी देवगौड़ा के बीमार पड़ने पर वह इन मंदिरों से प्रसाद, भभूत और टीका लाकर देते हैं।