सामूहिक आत्महत्या – क्या है 11 का राज

0
215

नई दिल्ली =बुराड़ी ‘सामूहिक सूइसाइड’ मामले में लगातार नई-नई बातें सामने आ रही हैं। पुलिस ने आशंका जताई है कि नारायणी देवी के छोटे बेटे ललित ने सब लोगों को ‘लटकाया’ और पूरा मामला तंत्र-मंत्र से जुड़ा है। घर से बरामद डायरियों और रजिस्टरों से ऐसे संकेत मिले हैं। सोमवार से ही नंबर 11 से भी इन 11 मौतों के कनेक्शन की बातें सामने आ रही हैं। घर में 11 शव मिले और एक दीवार पर 11 पाइप, 11 खिड़कियां, 11 ऐंगल आदि महज संयोग या किसी प्लैनिंग का हिस्सा थे, इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए जांच की जा रही है।
इस बीच परिवार की रिश्तेदार सुजाता ने पाइपों से मौतों के कनेक्शन को खारिज किया है। उनका कहना है कि पाइप किसी तंत्र-मंत्र या काले जादू या विशेष धार्मिक कारण से नहीं लगाए गए थे बल्कि पाइप सोलर प्रॉजेक्ट और वेंटिलेशन के काम के लिए लाए गए थे। सुजाता का कहना है कि परिवार धार्मिक था, लेकिन ‘काला जादू’ जैसे काम नहीं करता था जैसा कि मीडिया रिपोर्ट्स में बार-बार दिखाया जा रहा है।
उधर, घर की बेटी प्रियंका के मंगेतर ने भी कहा कि परिवार बेहद शांत था और प्रियंका तंत्र-मंत्र जैसी बातों में विश्वास नहीं करती थी। उन्होंने कहा कि अगर आत्महत्या का कोई इरादा होता तो सगाई क्यों करती और शादी की तैयारियां क्यों की जा रही होतीं।
इस पूरे मामले को डॉक्टर कल्ट सूइसाइड या पजेसिव सिंड्रोम से जोड़कर देख रहे हैं। डॉक्टरों का कहना है कि अगर परिवार के 11 लोगों की जान जाने के पीछे बेटे का प्लान है तो वह बेटा पजेसिव सिंड्रोम का शिकार हो सकता है। इस केस के कल्ट सूइसाइड होने के भी संकेत हैं।
घटना की रात से पहले घर में रोटी डिलीवर करने वाले शख्स ऋषि ने बताया, ‘उन्होंने करीब रात 10:30 बजे 20 रोटियों का ऑर्डर दिया था। मैं करीब 10:45 बजे डिलीवर करने गया। बेटी ने ऑर्डर लिया और पिता से पेमेंट करने को कहा। सबकुछ बिल्कुल सामान्य था।’ ऋषि ने ही आखरी बार परिवार के लोगों को देखा था।
आखिरी वक्त में क्या कोई संदेश कहीं से मिला जो एकसाथ पूरा परिवार मौत को आसानी से गले लगाने को तैयार हो गया। पुलिस की मानें तो अभी तक की थिअरी में यह साफ जाहिर है कि बेहद प्लैनिंग के तहत कदम उठाया गया। आखिरी वक्त में सभी कतार में स्टूल पर खड़े हुए होंगे, तभी नोट्स में लिखे निर्देशानुसार फंदा लगाया होगा और अंत में एक किसी शख्स ने कूदने की कहा और सभी स्टूल को साइड में पटककर लटक गए।