किम अपना वायदा नहीं निभा रहा है

0
63


वॉशिंगटन= अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप और किम जोंग-उन के बीच हुई ऐतिहासिक वार्ता के बाद नॉर्थ कोरिया ने परमाणु कार्यक्रम बंद करने का ऐलान किया था, लेकिन हकीकत में ऐसा होता दिख नहीं रहा। अमेरिकी खुफिया एजेंसियों का मानना है कि नॉर्थ कोरिया ने हालिया महीनों में कई गुप्त स्थानों पर परमाणु हथियारों के लिए ईंधन उत्पादन के काम में बढ़ोतरी की है। एनबीसी न्यूज ने अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से खबर दी है कि नॉर्थ कोरिया ने अमेरिका के साथ हुई बातचीत के दौरान इसे छिपाने की कोशिश की थी।
रॉयटर्स ने एनबीसी की रिपोर्ट के हवाले से बताया कि अमेरिकी खुफिया विभाग का यह ताजातरीन आकलन ट्रंप के उन दावों के विपरीत नजर आ रहा है। 12 जून को नॉर्थ कोरिया के शासक किम जोंग-उन के साथ बैठक के बाद ट्रंप ने ट्वीट किया था अब उत्तर कोरिया की तरफ से परमाणु हमले का कोई खतरा नहीं है। ट्रंप ने दावा किया था कि नॉर्थ कोरिया पूर्ण निरस्त्रीकरण करेगा जो शुरू हो चुका है। लेकिन एनबीसी की रिपोर्ट एक अलग ही तस्वीर दिखा रही है।
एनबीसी ने पांच अज्ञात अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से बताया है कि हालिया महीनों में नॉर्थ कोरिया ने परमाणु हथियारों के लिए यूरेनियम का उत्पादन बढ़ा दिया है। यह उस वक्त भी हो रहा था जब वह पूर्ण निरस्त्रीकरण के मुद्दे पर अमेरिका से बातचीत की कूटनीतिक तैयारी कर रहा था। रिपोर्ट ने अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से बताया है कि योंगब्योन के न्यूक्लियर फ्यूल प्रॉडक्शन सुविधा के अलावा नॉर्थ कोरिया के पास एक से अधिक गोपनीय न्यूक्लियर साइट हैं।
एक अधिकारी ने एनबीसी को बताया कि बिल्कुल स्पष्ट सबूत हैं कि वे यूएस को धोखा देने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि सीआईए ने एनबीसी की रिपोर्ट पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है। वहीं स्टेट डिपार्टमेंट ने भी कहा कि वह इसकी पुष्टि नहीं कर सकते। साथ ही स्टेट डिपार्टमेंट ने कहा कि खुफिया मामलों पर टिप्पणी भी नहीं कर सकते। वहीं वाइट हाउस ने इस संबंध में सवालों पर अबतक जवाब नहीं दिया है।
एनबीसी की इस रिपोर्ट ने ट्रंप और किम जोंग-उन की बैठक के बाद नॉर्थ कोरिया द्वारा नाभिकीय हथियार त्यागने की प्रतिबद्धता पर भी सवाल खड़े किए हैं। ट्रंप ने किम के साथ हुई अपनी बैठक को काफी सफल होने का दावा करते हुए इसके नतीजों को शानदार बताया था। एक अमेरिकी खुफिया अधिकारी ने एनबीसी को बताया कि बैठक के बाद मिसाइल टेस्ट बंद करने का नॉर्थ कोरिया का फैसला अप्रत्याशित था। उन्होंने कहा कि हम बारीक नजर रखे हुए हैं।

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो 6 और 7 जुलाई को नॉर्थ कोरिया की यात्रा करने वाले हैं। हालांकि अभी इसकी आधिकारिक पुष्टि बाकी है। बताया जा रहा है कि पॉम्पियो की यह यात्रा नॉर्थ कोरिया की निरस्त्रीकरण की योजना पर ही फोकस है।