टिकिट में देरी सही पर दफ्तर तो खुल गए उम्मीदवारों के

0
206

जबलपुर – भले ही मध्यप्रदेश में होने वाले चुनावों में अभी चार पांच महीने की देरी हो और प्रमुख दलों ने अपने अपने उम्मीदवारों के नाम तय न किये हो पर टिकिट चाहने वाले नेताओ ने अपनी तैयारी पुख्ता तौर पर शुरू कर दी है विशेषकर कांग्रेस के नेताओ ने अपने आप को जनता की समस्याये हल करने में झोंक दिया है अनेक नेताओ ने अपने अपने कार्यालय खोल लिया है और वे बाकायदा अपने कार्यालयों में अपने समर्थको के साथ कई घंटे मौजूद रहते है और अपने अपने विधान सभा इलाके केलोगों से न इस बहाने जीवंत संपर्क कर रहे है बल्कि अपने स्तर पर उनकी समस्यायों को हल करने की की कोशिश में भी लगे हुए है
जबलपुर में इस वक्त चार शहरी विधानसभा की सीटों पर तीन सीटों पर बीजेपी का कब्ज़ा है मात्र पश्चिम विधानसभा एक ऐसी सीट है जो कांग्रेस के जिम्मे है जिस पर तरुण भनोट विधायक है में है पर हाल ही में मध्यप्रदेश में बीजेपी की पतली हालत वाले सर्वे ने कांग्रेसी नेताओ के उत्साह को दुगना कर दिया है यही कारण है कि हर उम्मीदवार टिकिट पाने की दौड़ में शामिल है कांग्रेस में सबसे ज्यादा उम्मीदवार उत्तर मध्य इलाके में सक्रिय है दो दिन पहले ही कांग्रेस की टिकिट चाहने वाले कांग्रेसी नेता सत्यम जैन ने गोल बाजार में अपने कार्यालय का भारी ताम झाम के साथ उद्घाटन राजयसभा सांसद श्री विवेक तन्खा के हाथो करवाया इसमें सबसे मार्के की बात तो ये रही कि उत्तर मध्य इलाके से कांग्रेस के तमाम दुसरे उम्म्मीद्वार भी इस कार्यक्रम में शामिल रहे. सत्यम जैन ने बताया की उन्होने जनसम्पर्क केंद बनाया है जिसमे वे स्वय अपने समर्थकों केसाथ बैठ कर उत्तरमध्य विधान सभा इलाके के मतदाताओं से जंहा लगातार संपर्क कर रहे है वंही यदि किसीमतदाता की कोई समस्या होती है तोउसे भी हल करवाने की अपने स्तर पर पूरी कोशिश करते है उनका कहना है टिकिट देना न देना पार्टी पर निर्भर करता है पैर वे कांग्रेस की रीति नीतियों को लोगो तक पंहुचाने के लिये कृत संकल्पित है उत्तर मध्य के ही एक अन्य उम्मीदवार बाबू विष्वमोहन अपनी बखरी में बैठ कर लोगो की समसयाओ के निराकरण की कोशिश कर रहे है वंही बरगी विधानसभा इलाके में संजय यादव और जीतेन्द्र अवस्थी ने अपना डेरा दाल रखा है बाकायदा उनके कार्यालय वंहा खुलचुके है और वे भी सुबह से देर रात तक ग्रामीण इलाके के लोगो की समस्याओं को हल करने की पहल कर रहे है वैसे देखा जाए तो कांग्रेस के लिए ये एक शुभ संकेत है की भले ही टिकिट किसी एक उम्मीदवार को मिले पर हर उम्मीदवार लोगो के बीच जाकर कांग्रेस के लिये माहौल तो बना ही रहा है पोस्टर और बेनरो से से लदे उनके ये कार्यालय भी कांग्रेस की पब्लिसिटी में उपयोगी साबित हो रहे है