राबड़ी की सुरक्षा में कटौती वापस हुई तेजस्वी ने कहा नीतीश पल्टूराम

0
73

पटना =बिहार की नीतीश सरकार ने राष्ट्रीय जनता दल मुखिया लालू प्रसाद यादव की पत्नी और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी की सुरक्षा कटौती का फैसला वापस ले लिया है। पूर्व के आदेश के तहत राबड़ी देवी के आवास पर तैनात 32 बिहार मिलिट्री पुलिस के जवानों को वापस बुला लिया गया था।
अब नए आदेश के तहत यह राबड़ी की सुरक्षा में फिर ये जवान तैनात होंगे। हालांकि इससे पहले अपर पुलिस महानिदेशक ने किसी भी सुरक्षाकर्मी के हटाए जाने की बात से इनकार किया था।
उधर, सुरक्षा वापस होने के बिहार सरकार के फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए राबड़ी देवी के बेटे और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा, नीतीश कुमार ‘पलटू राम’ हैं। एक बार फिर वह अपने निर्णय से पलट गए। नीतीश कुमार को पहले यह साफ करना चाहिए कि जब गृह विभाग उनके ही पास है तो सुरक्षा वापस लेने का इससे पहले आदेश किसने जारी किया था?’
उल्लेखनीय है की रेलवे होटेल टेंडर घोटाले में हुई पूछताछ के बाद सुरक्षा हटाए जाने की बात सामने आई थी। राबड़ी देवी ने मीडिया से बात करते हुए कहा था, ‘रात को 9 बजे हमारी सुरक्षा हटा ली गई है, देखिए कि यह सरकार क्या कर रही है। यह मुझे और मेरे परिवार को मारने की साजिश की जा रही है।’
इसके अलावा तेजस्वी यादव और राबड़ी देवी ने अपनी सुरक्षा वापस करने को भी कहा था। इस पर तेजस्वी ने लिखा था, ‘मेरी माता राबड़ी देवी जी ने पूर्व मुख्यमंत्री की हैसियत से प्राप्त सुरक्षा, मेरे भाई को विधायक के नाते और मुझे नेता प्रतिपक्ष के नाते प्राप्त सुरक्षा को हम बिहार के सीएम नीतीश कुमार को वापस सौंप रहे है ताकि वह तुच्छ ईर्ष्यालु कार्य छोड़ सकारात्मक कार्यों पर ध्यान केन्द्रित कर सकें।’
इससे पहले सुरक्षा में कटौती का आरोप लगाते हुए राबड़ी देवी ने नीतीश सरकार पर अपनी और अपने परिवार की हत्या की साजिश का आरोप भी लगाया था। उन्होंने जेल में खराब होती लालू प्रसाद यादव की तबीयत का जिक्र करते हुए भी आशंका जताई है कि कहीं उन्हें मारने की साजिश तो नहीं की जा रही। उन्होंने एक पत्र लिखकर कहा था कि अगर उनके साथ कोई भी अप्रिय घटना होती है तो इसकी जिम्मेदारी गृह विभाग की होगी।