आचार्य श्री के चरणों से धन्य हुआ जबलपुर

0
164

आचार्य विद्यासागर जी ने डीडोरी से विहार करते हुए पिपरिया ग्राम में रात विश्राम किया जिनालय केदर्शन , दिनेश जैन एवं सतेन्द्र जैन ने रांझी में नव निर्मित जिनालय में पुण्यार्जन प्राप्त किया
गावो और बेरोजगारों को हुनर सिखाने और अहिंसक तरीके से आत्मनिर्भर बनाने की पहल खादी और हाथकरघा को प्रोत्साहन दने के उद्देश्य से आचार्य श्री के आशीष से सभी जगह हाथकरघा केंद्र बनाये जा रहे है जबलपुर में भी इस प्रकल्प से सैकड़ो निर्धनों को रोजगार मिला है , अभी सागर जेल के बंदियों को आत्मनिर्भर और हुनरमंद बनाने के उद्देश्य से १०८ हथकरघा सागर की जेल में लगाने के लिए आज धर्मं सभा में १०८ हाथकरघा दान किये गए जबलपुर जेल में भी इसी तरह के प्रकल्प का संकल्प लिया गया , प्रतिभा स्थली की छात्रा ने आचार्य श्री से जबलपुर प्रवास का निवेदन किया इस अवसर पर आचार्य श्री ने कहा
अहिंसा का प्रकाश एक कोने से सारे विश्व में फ़ैल सकता है , आज आवश्यकता है हर घर में अहिंसा के प्रचार की , अहिंसा और संस्कार से ही देश का विकास संभव है प्रतिभा स्थली की छात्राए पुरे विश्व में संस्कारित अहिंसा की मशाल जलाएँगी ताकि विश्व शांति हो सके , देश में कई जगहों पर संस्कारित शिक्छा के केंद्र प्रतिभा स्थली की स्थापना की जा रही है .
धर्म सभा का सञ्चालन अमित पडरिया ने किया , आहार पंकज जैन के यहाँ हुए , आहार के बाद आचार्य श्री ने एल एन यादव स्कूल में विश्राम किया . ४ बजे मुनि संघ हनुमानताल मंदिर में दर्शन हेतु पंहुचा यहाँ आदिनाथ भगवन का अभिषेक पराग जैन , पल्लब , सचिन टिंकू , मिलिंद जैन ने किया, लार्ड गंज जैन मंदिर में दर्शन के बाद मुनि संघ विद्यासागर भवन में एकत्रित हजारो दर्शनार्थियों को आशीष दे कर शिव नगर चले गए , आचार्य श्री कब कहा जायेंगे ये किसी को नहीं मालूम होता पर सम्भावना है की संघ टीकमगढ के पपोरा जी जा सकते है ,