सोनिया के डिनर को ममता की ना

0
81

कोलकाता =एक ओर कांग्रेस 2019 लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी को घेरने के लिए विपक्ष को एकजुट करने की कोशिश कर रही है। दूसरी ओर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के तेवर कुछ बदले-बदले नजर आ रहे हैं। 13 मार्च को सोनिया गांधी की तरफ से प्रस्तावित डिनर में जहां ज्यादातर विपक्ष नेता शामिल होंगे, वहीं तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी के इस डिनर में शामिल नहीं होने की खबर है।
अंगरेजी न्यूज चैनल टाइम्स नाऊ के मुताबिक, सोनिया के डिनर में तृणमूल कांग्रेस की तरफ से डेरेक ओ ब्रायन और सुदीप बनर्जी तो शामिल होंगे लेकिन खुद ममता बनर्जी इसमें शिरकत नहीं करेंगी।
वहीं 13 मार्च को होने वाले डिनर में राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता और बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पार्टी के शिरकत करने से बिहार की राजनीति में नए कयास लगाए जा रहे हैं। साथ ही एनडीए से बगावत कर अलग हुए बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतन राम मांझी के भी इस डिनर में शामिल होने की खबर है।
कांग्रेस की तरफ से आयोजित डिनर में विपक्ष के कौन-कौन नेता शामिल होते हैं यह इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि हाल ही में तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव के एनडीए से अलगाव के बाद एक गैर-बीजेपी, गैर-कांग्रेस तीसरे फ्रंट की बात सामने आ रही है। उन्होंने खुद इसका संकेत दिया है। यही नहीं वह इसकी अगुवाई के लिए तैयार हैं और उन्हें तृणमुल कांग्रेस की मुखिया ममता बनर्जी ने समर्थन भी किया है।
ऐसा भी माना जा रहा है कि ममता खुद अपने स्तर पर बीजेपी को हराने के लिए तीसरा मोर्चा तैयार करने की अगुवाई करना चाहती हैं। इसके लिए वह अलग-अलग पार्टियों से बात कर रही हैं। हाल ही में उनके डीएमके के कार्यवाहक अध्यक्ष एम के स्टालिन से बातचीत की खबर आई थी। कांग्रेस के करीबी सूत्रों का कहना है कि यह डिनर पक्का करेगा कि सभी विपक्षी पार्टियां संसद के अंदर और बाहर दोनों जगह बीजेपी को घेरेंगी।