कश्मीर को सामाजिक विषय बताने वाले वित्त मंत्री की छुट्टी

0
68

श्रीनगर =जम्मू-कश्मीर में सत्तारुढ़ पीडीपी-बीजेपी सरकार ने राज्य के वित्त मंत्री और पीपल्स डेमोक्रैटिक पार्टी के कद्दावर नेता हसीब द्राबू को राज्य कैबिनेट से बाहर करने का निर्णय लिया है। इससे पूर्व कश्मीर पर दिये एक विवादित बयान के बाद पीडीपी की ओर से द्राबू को एक नोटिस जारी किया गया।
दरअसल राज्य सरकार में वित्त मंत्री हसीब द्राबू ने कल नई दिल्ली में कहा था कि कश्मीर की समस्या एक राजनीतिक मुद्दा नहीं, बल्कि सामाजिक विषय है। द्राबू के इस बयान को अनुशासनहीनता और पार्टी विरोधी मांगते हुए नेतृत्व ने उन्हें एक नोटिस जारी करते हुए इस बारे में उनका जवाब मांगा था। बताया जा रहा है कि इस नोटिस के बाद द्राबू ने सोमवार को शीर्ष नेतृत्व को अपना जवाब भेजा था। सूत्रों का कहना है कि द्राबू द्वारा दिये गए स्पष्टीकरण के बाद अब पीडीपी ने उन्हें राज्य कैबिनेट से हटाने की तैयारी कर ली है।
बताया जा रहा है कि सीएम महबूबा मुफ्ती ने हसीब द्राबू को राज्य कैबिनेट से बर्खास्त करने के लिए राज्यपाल एन एन वोहरा को अपना पत्र भेजा है। हालांकि अब तक पीडीपी की ओर से इस संबंध में कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया गया है।
रविवार को हसीब द्राबू के बयान के बाद पीडीपी के उपाध्यक्ष सरताज मदनी ने उनसे इस बयान पर अपना स्पष्टीकरण देने की अपील की थी। इस दौरान उन्होंने कहा था ‘पीडीपी कश्मीर के विषय को एक राजनीतिक मुद्दा मानती है और पार्टी ने अपनी स्थापना के वक्त से ही इस मुद्दे को बातचीत के जरिये हल करने पर जोर दिया है। ऐसे में वरिष्ठ नेताओं को पार्टी के कोर एजेंडे से जुड़े किसी विषय पर बयान देते समय थोड़ा सतर्क रहने की जरूरत है।’
पीडीपी के फैसले के बाद राज्य के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने अपनी प्रतिक्रिया में ट्वीट करते हुए लिखा ‘द्राबू को अपने दिये बयान की कीमत चुकानी पड़ी लेकिन यह देखना दिलचस्प होगा कि अब वित्त मंत्रालय में उनकी जगह कौन लेता है?’