दिल्ली की अदालत ने विजय माल्या को भगोड़ा घोषित किया

0
28

नई दिल्ली =दिल्ली की एक अदालत ने शराब कारोबारी विजय माल्या को भगोड़ा घोषित कर दिया। माल्या को फेरा कानून के उल्लंघन से जुड़े एक मामले में बार-बार समन भेजे जाने के बाद भी पेश नहीं होने के बाद भगोड़ा घोषित किया गया है। दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट के चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट दीपक सेहरावत ने इस बाबत आदेश जारी किया। जस्टिस दीपक सेहरावत ने अपने आदेश में कहा, ‘विजय माल्या समन जारी होने के 30 दिन के अंदर कोर्ट के सामने पेश नहीं हुए और ना ही उनकी पैरवी करते हुए कोई कार्ट के समक्ष पेश हुआ है। इसलिए माल्या को भगोड़ा घोषित किया जा रहा है।’
पिछले साल अप्रैल में शराब कारोबारी माल्या के खिलाफ कोर्ट ने ओपन एंडेड नॉन बेलेबल वॉरंट जारी किया था। इस तरह के वॉरंट की कोई समयसीमा नहीं होती है। पिछले साल 4 नवंबर को एक नॉन बेलेबल वॉरंट इशू करते हुए कोर्ट ने माना था कि माल्या के भारत वापस लौटने की संभावना नहीं दिख रही है और उनके दिल में देश के कानून के प्रति कोई सम्मान की भावना नहीं है। कोर्ट ने यह भी कहा था कि अब माल्या के विरुद्ध बलपूर्वक कार्रवाई करने का वक्त आ गया है, क्योंकि वह कई मामलों में आरोपी होने के बाद भी कोर्ट के सामने पेश होने से बच रहे हैं।
कुछ दिनों पहले सुनवाई के दौरान कोर्ट ने सरकार द्वारा पासपोर्ट निरस्त करने का बहाना बनाकर खुद को देश वापस लौटने में अक्षम बताने वाली माल्या की याचिका को कानून का दुरुपयोग माना था। कई मामलों में वांछित चल रहे माल्या ने हाल ही कोर्ट से कहा था कि वह स्वदेश वापस आना चाहते हैं लेकिन भारतीय अधिकारियों द्वारा उनका पासपोर्ट निरस्त कर दिए जाने के बाद उनका कोर्ट के सामने पेश होना संभव नहीं है। जुलाई में कोर्ट ने विजय माल्या को इन मामलों में निजी पेशी में दी हुई छूट को खत्म करके उन्हें ईडी के सामने पेश होने का आदेश दिया था।