तीन तलाक़ विरोधी बिल के लटकने का अंदेशा

0
31


नई दिल्ली =आज यानि गुरुवार को राज्यसभा में तीन तलाक बिल यदि सरकार पारित नहीं करवा पाई तो ये बिल लटकने के पूरे अंदेशे है , क्योंकि शुक्रवार को शीत सत्र संपन्न हो जाएगा। राज्यसभा में इस बिल को लेकर कांग्रेस सहित और अन्य विपक्षी पार्टिया जिस तरह का मोर्चा खोले हुए है उसे देखते हुए नहीं लगता की बिल इस सत्र में पारित हो पायेगा हो सकता है इसे सिलेक्ट कमेटी के पास भेजना पड़ जाए
बुधवार को राज्यसभा में पेश किए गए तीन तलाक बिल को सदन की सिलेक्ट कमेटी के पास भेजने को लेकर सत्तारूढ़ बीजेपी और कांग्रेस की अगुवाई वाले विपक्ष के बीच जमकर तकरार हुई। मोदी सरकार ने यह कहते विपक्ष की मंशा पर सवाल उठाते हुए कहा कि इसे कमेटी के पास भेजने की मांग बिल को लटकाने की चाल है, वहीं विपक्ष ने कहा कि प्रस्तावित कानून में ‘खामियां’ हैं और इसे पास करने से पहले संबंधित पक्षों से चर्चा की जानी चाहिए।
दरअसल, लोकसभा में आसानी से पास हो जाने के बाद सरकार को उम्मीद थी कि वह कांग्रेस के सहयोग से इसे राज्यसभा में भी पास करवा लेगी। कांग्रेस की ओर से संकेत भी कुछ ऐसे मिले थे, लेकिन राज्यसभा में मुख्य विपक्षी दल ने अपना रुख बदल लिया और यही सरकार के लिए बड़ी मुश्किल बन गया है।
कांग्रेस ने दावा किया कि एआईएडीएमके, बीजेडी, टीएमसी और एनडीए की पार्टनर टीडीपी सहित 17 दल इस बिल को कमेटी के पास भेजने के पक्ष में हैं। केवल शिरोमणि अकाली दल और छोटे सहयोगी दल ही बीजेपी का समर्थन कर रहे हैं, जबकि शिवसेना ने बहस में हिस्सा नहीं लिया।