कुमार विश्वास के खिलाफ एफआईआर दर्ज

0
54

बुलंदशहर =उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है। यह एफआईआर समता सैनिक दल की तरफ से कराई गई है। कुमार विश्वास पर आरोप है कि उन्होंने एक भाषण के दौरान कथित रूप से डॉक्टर भीमराव आंबेडकर के खिलाफ आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया।
समता सैनिक दल के बुलंदशहर के जिलाध्यक्ष संजीव कुमार गौतम ने कहा कि कुमार विश्वास ने पूरे दलित समाज की भावनाओं का आहत किया है। उन लोगों की मांग है कि उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए।
गौरतलब है कि कुमार विश्वास ने एक भाषण में कहा था कि एक व्यक्ति ने आरक्षण के नाम पर एक आंदोलन चलाया और समाज को गहरे जातियों में बांटने की कोशिश की। उससे पहले हर व्यक्ति में एकता थी। कुमार विश्वास ने यह भाषण 2 अक्टूबर को एक सार्वजनिक कार्यक्रम में दिया था।
गौतम ने इसी विडियो के आधार पर कुमार विश्वास के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। उन्होंने बताया कि आंबेडकर का अपमान करने के साथ ही कुमार विश्वास ने भाषण में एक ऐसा उदाहरण दे डाला जो उससे भी ज्यादा आपत्तिजनक था। अपने भाषण में विश्वास ने कहा कि उनकी दादी के साथ एक दलित महिला दहेज के तौर पर आयी थी। यह बोलकर उन्होंने एक दलित महिला को न केवल दासी बताया बल्कि उन्हें एक वस्तु बना दिया। दलित समाज इसे बर्दाश्त नहीं करेगा।
एसपी प्रवीन रंजन ने बताया कि कुमार विश्वास के खिलाफ धारा-298 धारा के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। अब पुलिस आगे की कार्रवाई करेगी।
हालांकि पूरे मामले में कुमार विश्वास ने कहा कि उन पर लगे आरोप झूठे हैं। उन्होंने कभी भी बाबा साहब आंबेडकर का नाम नहीं लिया। उन्होंने 1990 दशक की बात की जब मंडल कमीशन गठित किया गया था। वीपी सिंह इसे लीड कर रहे थे। इस कमीशन में जाति के आधार पर आरक्षण की बात कही गई थी।
कुमार विश्वास का कहना कि यह 2 अक्टूबर का भाषण है, जिसे अब वायरल किया जा रहा है। यह राजनीतिक साजिश है। कुछ लोग उनके भाषण को तोड़-मरोड़ कर पेश कर रहे हैं। वह जातिवाद में विश्वास नहीं करते हैं। यही कारण है कि वह अपने नाम के आगे उपनाम नहीं लगाते हैं। अगर उनके भाषण से किसी की भावनाएं आहत हुई है तो वह माफी मांगते हैं।