अब 251 रूपये में मोबाइल देने वाली कंपनी के एम डी ने लिखाई फ्राड की कंप्लेंट

0
41

नोएडा =रिंगिंग बेल्स कंपनी साल जो 2015 में बाजार में 251 रुपये में मोबाइल लाकर चर्चा में आई थी।उसके एमडी को करीब सवा 3 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के मामले में सेक्टर-49 थाना पुलिस ने 2 आरोपियों को बरौला स्टैंड से गिरफ्तार किया। दोनों आरोपी विकास शर्मा और जितेंद्र उर्फ जीतू हैं। उनका साथी शत्रुघ्न फरार हो गया।
सेक्टर-49 थाने के एसएचओ विनय प्रकाश सिंह ने बताया कि रिंगिंग बेल्स कंपनी के एमडी मोहित गोयल ने 23 नवंबर को थाने में धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। उनका आरोप था कि 2015 में वाई टेक्नॉलजी के डायरेक्टर विकास शर्मा और गाजियाबाद स्थित वैशाली के जितेंद्र उर्फ जीतू ने दिल्ली में उनसे मुलाकात की। दोनों ने उन्हें ऑफर दिया कि वह देश में लोगों को सस्ते स्मार्टफोन उपलब्ध करवाने के रिंगिंग बेल्स कंपनी के विजन को पूरा करने में मदद कर सकते हैं।
उन्होंने बताया कि चीन में उनकी अपनी उत्पादन इकाई है, जहां से 1 हजार 80 रुपये में सिंगल स्मार्टफोन उपलब्ध करवा देंगे। उसके बाद मोबाइल ऐप अपलोड करके वे उसकी कीमत को कम करके लोगों को बेच सकते हैं। गोयल के मुताबिक, उनकी बातों में आकर उन्होंने आरोपियों को 3 करोड़, 27 लाख, 30 हजार रुपये माल खरीदने के लिए दिए।
एमडी मोहित गोयल का आरोप है कि पैसा लेने के बाद दोनों ने उन्हें थोड़ा-सा माल डिलिवर कर दिया, जो यूज करने पर खराब निकल गया। जब डायेरक्टर ने दोनों आरोपियों से अच्छा माल देने को कहा तो उन्होंने ना कह दिया, साथ ही पैसा लौटाने से भी इनकार कर दिया। पीड़ित का आरोप है कि जब उसने अपने पैसे वापस मांगे तो 2 करोड़ रुपये का चेक दिया गया, वह भी बाद में बाउंस हो गया।
रिंगिंग बेल्स कंपनी ने वर्ष 2015 में केवल 251 रुपये में देश में सबसे सस्ते स्मार्टफोन उपलब्ध करवाने की घोषणा कर सनसनी मचाई थी। करीब साढ़े सात करोड़ लोगों ने रिंगिंग बेल्स कंपनी की वेबसाइट पर अपनी बुकिंग करा दी। बाद में इस मामले में कंपनी के खिलाफ फ्रॉड का केस दर्ज हुआ। मोहित गोयल व अन्य निदेशक इस मामले में जेल गए थे। अगस्त में ही मोहित गोयल को जमानत मिली है। जमानत पर छूटने के बाद अब मोहित गोयल ने यह मुकदमा दर्ज कराया है।